Wednesday, June 19, 2024
HomeUncategorizedआपके तकिये का कवर भी आपको कर सकता है बीमार, जान लीजिए...

आपके तकिये का कवर भी आपको कर सकता है बीमार, जान लीजिए वो कैसा होना चाहिए

जब कोई व्यक्ति एकदम रिलैक्स और शांति के साथ आराम करना चाहता है तो उसके बिस्तर और तकिया से बेहतर कुछ भी नहीं हो सकता है। ये दोनों जितना आरामदायक होंगे इंसान को उतनी अच्छी नींद आएगी। लेकिन अगर आपको पता चले कि आपका तकिया आपकी बीमारी का कारण बन सकता है तो इस पर आप क्या रिएक्शन देंगे। आपको जानकर हैरानी होगी कि एक तकिया आपकी इम्युनिटी, मेंटल हेल्थ से लेकर पूरी लाइफस्टाइल तक को प्रभावित कर सकती है। हालांकि यह तकिया आपको सीधे तौर पर बीमार नहीं कर सकता है, लेकिन यह शारीरिक परेशानी और कई तरह की समस्याओं को बढ़ा जरूर सकता है।

तकिया कुछ इस तरह से करता है बीमार
जैसा कि आपको पता हैै अधिकांश लोग करवट लेकर सोना पसंद करते हैं, और इसके लिए वह गद्दे के बीच के अंतर को भरने और सिर को सहारा देने के लिए उचित ऊंचाई के तकिये का इस्तेमाल करते हैं। सही तकिये का उपयोग न करने पर सिर को सहारा नहीं मिल सकता है या नीचे की ओर झुक सकता है, जिससे संभावित रूप से गर्दन में दर्द, चक्कर आना और यहां तक कि ऊपरी अंगों में दर्द और सुन्नता हो सकती है।

भले ही आप अपनी पीठ के बल सोते हों. सर्वाइकल स्पाइन की नैचुरल आकार को बनाए रखने के लिए तकिये का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। हालांकि, अतिरिक्त मोटे तकिए का उपयोग करने से असुविधा, गर्दन में दर्द और यहां तक कि ऊपरी अंगों में सुन्नता और कमजोरी हो सकती है। ये प्रभाव मुख्य रूप से सर्वाइकल स्पाइन की असामान्य स्थिति के कारण होते हैं। जो आपके शरीर के आराम में प्रॉब्लम कर सकती है।

खराब साइज का तकिया न रखें
विशेषज्ञों की मानें तो खराब फिटिंग वाले तकिए से गर्दन और रीढ़ की हड्डी को सहारा मिलने के अलावा, इसमें धूल के कण, एलर्जी या यहां तक कि फफूंद भी जमा हो सकता है जो एलर्जी, अस्थमा या श्वसन संबंधी समस्याओं को ट्रिगर कर सकता है, जिससे बार-बार बीमारी हो सकती है। सोने की स्थिति के अनुरूप सही तकिया चुनना रात की अच्छी नींद के लिए और संभावित स्वास्थ्य समस्याओं, जैसे चक्कर आना और गिरने और संबंधित चोटों के जोखिम को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है।

सही तकिया कैसे चुनें
ऐसा तकिया चुनें जो आपके शरीर की प्राकृतिक आकृति के अनुरूप गर्दन और रीढ़ को उचित सहारा दे। मेमोरी फोम, लेटेक्स और फेदर तकिए लोकप्रिय विकल्प हैं जो विभिन्न प्राथमिकताओं को पूरा करते हैं। खरीदने से पहले तकिए को ठीक से चेक करें कि वह कितना ज्यादा आराम है। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी से बचने के लिए तकिये के खोल को हर 1-2 सप्ताह में धोएं और तकिए को हर 3-6 महीने में, उपयोग के आधार पर धोएं।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES