Monday, June 24, 2024
Homeउत्तराखंडप्राविधिक सेवा के कार्मिकों को राजपत्रित अधिकारी का दर्जा दिया जाय- संघ

प्राविधिक सेवा के कार्मिकों को राजपत्रित अधिकारी का दर्जा दिया जाय- संघ

परिवहन विभाग प्राविधिक सेवा संघ द्विवार्षिक अधिवेशन में नयी कार्यकारिणी का गठन

ARTO के पद पर पदोन्नति हेतु निर्धारित कोटे की विसंगति को दूर करने की मांग

ऋषिकेश। उत्तराखण्ड परिवहन विभाग प्राविधिक सेवा संघ द्विवार्षिक अधिवेशन ऋषिकेश में सम्पन्न हुआ। अधिवेशन में सर्वसम्मति से अध्यक्ष पद पर अरविन्द यादव, देहरादून एवम् महामंत्री पद पर चन्द्रकान्त भटट्, हरिद्वार को मनोनीत किया गया। सभा की अध्यक्षता मुख्य अतिथि एस०एस०चौहान, अध्यक्ष, उत्तराखण्ड डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ एवम् संचालन विनोद चमोली, महामंत्री, उत्तराखण्ड परिवहन मिनिस्टीरियल कर्मचारी संघ ने किया । संघ के पूर्व महामंत्री आलोक कुमार, ने संघ की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुऐ नई कार्यकारिणी को शुभकामनाएं दी।

निर्वाचन अधिकारी मोहित कोठारी, सहा० सम्भागीय परिवहन अधिकारी (प्रवर्तन) ऋषिकेश की देखरेख में सम्पन्न चुनाव में उपाध्यक्ष के रूप में प्रदीप सिंह रौथाण, पौडी, कोषाध्यक्ष हरीश बिष्ट, देहरादून, संगठन मंत्री प्रवीन कुमार, विकासनगर एवं सम्प्रेक्षक देवेन्द्र सिंह नेगी, बागेश्वर का निर्विरोध चयन किया गया।

विशेष अतिथि के रूप मुकेश रतूडी, महामंत्री उत्तराखण्ड डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ, बृजमोहन रावत, जिलाध्यक्ष, उत्तराखण्ड परिवहन मिनिस्टीरियल कर्मचारी संघ, दीपक पाण्डेय, शाखा अध्यक्ष, ऋषिकेश, उत्तराखण्ड परिवहन मिनिस्टीरियल कर्मचारी संघ ने संगठन की आवश्यकता एवं सामूहिक रूप से प्रयास करने पर जोर दिया गया।

अधिवेशन में राज्य के समस्त परिवहन कार्यालयों में तैनात सम्भागीय निरीक्षक (प्राविधिक) मौजूद रहे। नवनियुक्त अध्यक्ष अरविन्द यादव ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि प्राविधिक सेवा के कार्मिकों को राजपत्रित घोषित करने एवं सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी के पद पर पदोन्नति हेतु निर्धारित कोटे की विसंगति को दूर करने की मांग की गई। सभा में परिवहन विभाग के समस्त कार्मिकों का महासंघ बनाये जाने पर भी सहमति बनी।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES