Saturday, April 13, 2024
Homeउत्तराखंडश्री बदरीनाथ- केदारनाथ पहुंचे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे – रश्मि...

श्री बदरीनाथ- केदारनाथ पहुंचे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे – रश्मि ठाकरे सहित केंद्रीय चुनाव आयुक्त एवं नेपाल के राजदूत

बदरीनाथ/ केदारनाथ।

श्री बदरीनाथ एवं केदारनाथ के कपाट बंद होने में लगभग दो सप्ताह समय शेष है । लिहाजा देश- विदेश से महत्वपूर्ण श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला तेज हो गया है। अभी तक 19 लाख से अधिक तीर्थयात्री श्री केदारनाथ तथा 17 से अधिक लाख तीर्थयात्री श्री बदरीनाथ धाम दर्शन को पहुंच गये है। श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि अभी भी धामों में तीर्थयात्रियों तथा महत्त्वपूर्ण तथा अति महत्वपूर्ण शख्सियत का आना जारी है।

शुक्रवार को महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तथा उनकी धर्मपत्नी रश्मि ठाकरे ने श्री केदारनाथ के बाद बदरीनाथ धाम के दर्शन किये। उनके पश्चात पूर्वाह्न 11 बजे भारत में नेपाल के राजदूत शंकर प्रसाद शर्मा ने श्री केदारनाथ के पश्चात श्री बदरीनाथ मंदिर मे दर्शन‌ किये। दिन में देश के चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पांडेय ने सपरिवार केदारनाथ एवं भगवान बदरीनाथ के दर्शन किये। इन विशिष्ट व्यक्तियों के अलावा तिरूपति तिरूमला देवस्थानम बोर्ड के सदस्य सौरभ बोरा तथा त्र्यंबकेश्वर मंदिर ट्रस्टी कैलाश घुले भी केदारनाथ एवं बदरीनाथ दर्शन को पहुंचे।

इस अवसर पर बदरीनाथ में श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति ( बीकेटीसी) उपाध्यक्ष किशोर पंवार ने सभी विशिष्ट अतिथि जनों का स्वागत किया तथा रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी ने प्रसाद भेंट किया। केदारनाथ में कार्याधिकारी आरसी तिवारी ने अतिथिजनों को दर्शन पश्चात प्रसाद भेंट किया।

इस अवसर पर उत्तराखंड के मुख्य चुनाव आयुक्त डा. बी षणमुगम, जिलाधिकारी हिमांशु खुराना, अपर जिलाधिकारी अभिषेक त्रिपाठी, उप जिलाधिकारी जोशीमठ/ डिप्टी सीईओ मंदिर समिति कुमकुम जोशी, प्रभारी अधिकारी गिरीश देवली धर्माधिकारी राधाकृष्ण थपलियाल, ईओ नगर पंचायत सुनील पुरोहित, सूचना अधिकारी रवीन्द्र सिंह नेगी, मंदिर अधिकारी राजेंद्र चौहान, मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ थाना प्रभारी लक्ष्मी प्रसाद बिजल्वाण, अजीत भंडारी, अनसुया नौटियाल आदि मौजूद रहे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES