Sunday, March 3, 2024
Homeउत्तराखंडगुजराती समाज समिति के नवरात्र समारोह में प्रथम महिला श्रीमती गुरमीत कौर...

गुजराती समाज समिति के नवरात्र समारोह में प्रथम महिला श्रीमती गुरमीत कौर ने लिया हिस्सा

सांस्कृतिक विविधता में गुजराती समुदाय का अहम स्थान

देहरादून। प्रथम महिला श्रीमती गुरमीत कौर ने गुजराती समाज समिति द्वारा नवरात्रि के अवसर पर आयोजित समारोह में भाग लिया। देहरादून में अपनी संस्कृति और परंपराओं को बढ़ावा देने हेतु गुजराती समुदाय द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में विधायक सविता कपूर और पार्षद श्रीमती अमिता सिंह ने भी भाग लिया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने पारंपरिक संगीत, नृत्य प्रस्तुतियों का आनंद लिया और श्रीमती नीता कंसारा और श्रीमती भारती पांचाल द्वारा स्वादिष्ट गुजराती व्यंजनों की एक श्रृंखला भी तैयार की गई।

कार्यक्रम में अपने संबोधन में श्रीमती गुरमीत कौर ने नवरात्रि की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए समुदाय को एक साथ लाने में उनके उल्लेखनीय प्रयासों के लिए गुजराती समाज समिति के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि नवरात्रि के नौ दिनों के इस महोत्सव में हम अलग-अलग रूपों में माँ दुर्गा की पूजा करते हैं, जिनके प्रति हमारी श्रद्धा अत्यधिक होती है हर रूप का अपना महत्व है और हमें यह याद दिलाता है कि बुराई को नष्ट करने और अच्छाई को प्रमोट करने के लिए हमें सदैव सत्य का पालन करना चाहिए। नवरात्रि का महत्व हमारे जीवन में भी है।

हमें इस अवसर को सही तरीके से मनाने का प्रयास करना चाहिए और पूरी मानवता को इस उत्सव को मनाने की प्रेरणा देनी चाहिए। उन्होंने उत्तराखण्ड में रहने वाले विभिन्न समुदायों के बीच एकता और सद्भाव को बढ़ावा देने में ऐसे सांस्कृतिक कार्यक्रमों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने सांस्कृतिक विविधता में उनके योगदान के लिए गुजराती समुदाय की सराहना की। उन्होंने इस कार्यक्रम के आयोजन में गुजराती समाज समिति देहरादून द्वारा किए गए प्रयासों और स्थानीय समुदाय पर इसके सकारात्मक प्रभाव की सराहना की। अंत में इस कार्यक्रम में सहयोग के लिए समिति ने श्रीमती और जोगेंद्र मल्होत्रा और मोहित नगर सोसायटी के सदस्यों को विशेष धन्यवाद दिया गया।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad