Saturday, April 13, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिउत्तराखंड की अभिनेत्री गीता उनियाल अनंत यात्रा पर...! कैंसर ने छीन...

उत्तराखंड की अभिनेत्री गीता उनियाल अनंत यात्रा पर…! कैंसर ने छीन ली एक विलक्षण अदाकारा

और.. बेहद कम उम्र में ही टूट गई “गीतमिनी” की डोर..।

(मनोज इष्टवाल)

09 दिसम्बर 2023… वह अपने पेज में लिखती हैं :- “नमस्कार,,,,आप सब पूछते है आजकल कहा व्यस्त हू,आप सब घबराए नहीं पिक्स देख के कीमो चल रहे है मेरे,आज मुझे 16th कीमो चढ़ रहा है।।।।। हाथ में नस नही मिलती कीमो चढ़ने से तो पैर मे लगानी पड़ी।।।।

मैं बिल्कुल ठीक हू आप सब के आशीर्वाद से।।।।।।

अभी दूर बहुत है मंजिल मेरे कदमों से,
मगर तसल्ली ये है की कदम मेरे साथ है।।।

Feeling positive

फिर अपने जन्मदिन के दूसरे दिन यानि 15 जनवरी 2024 को वह अपने सोशल साइट पेज पर ट्वीट करती हैं :- “आप सब का दिल धन्यवाद मेरे जन्मदिन पर कॉमेंट्स और पोस्ट के द्वारा भरपूर प्यार आशीर्वाद मिला।सब का अलग अलग रिप्लाई करना मेरे लिए मुस्किल है।पिछले एक साल से बीमारी से लड़ रही हूं और बीमारी से लड़ने की ताकत भी आप सब से ही मिल रही है,,,,,जब ईश्वर का आशीर्वाद मेरे साथ है और आप सब की दुवाएं तो कोई भी मेरा कुछ नही बिगाड़ पाएगा ये मेरा विश्वास है।।।।।
miss you all
ये प्यार हमेशा यू ही बनाए रखे,,,jada khuch likh nahi paaungi

यह सचमुच बेहद स्तब्ध कर देने वाली घटना है कि अभिनय की दुनिया में ही नहीं बल्कि सामान्य जीवन में भी सबकी चहेती सुप्रसिद्ध अभिनेत्री गीता उनियाल भरी जवानी में ही अपने हजारों-हजार प्रशंसकों व नजदीकियों को छोड़कर इस लोक से उस लोक की अनंत यात्रा पर निकल गई। गीता व मिनी.. ये दोनों बहनें लगभग दो दशक से उत्तराखंडी सिने जगत में अपने अभिनय व लोक व्यवहार के रूप में बेहद पॉपुलर रही। इनकी “गीतमिनी” की जोड़ी हमेशा सबके दिलों में राज करती रहेगी।

2004 से छोटे परदे पर यानि वीडिओ एल्बम के माध्यम से सिने जगत में प्रवेश करने वाली गीता अक्सर मुझसे कहा करती थी – भाई साहब, आपके साथ काम करने की बड़ी तमन्ना है। मैं उन्हें लेकर अपनी एक शॉर्ट फ़िल्म “पर्वत की फ़्योंली” पर काम करने का विचार भी बना चुका था लेकिन उनकी बिमारी आड़े आ गई और प्रोजेक्ट पीछे खिसकता चला गया।

यह भी अजब का संयोग है कि मैंने गीता उनियाल को अंतिम बार दमदार अभिनय के साथ टिहरी विस्थापित कालोनी के ग्राउंड में सुप्रसिद्ध अभिनेता व निर्देशक बलदेव राणा के नाटक “वीर माधो सिंह भंडारी” में मुख्य नायिका का किरदार निभाते हुए देखा था, और आज फिर उनके हम सब से विदा लेने की खबर भी मैंने बलदेव राणा जी के फेसबुक में ही पढ़ी। उन्होंने अपने शब्दों के साथ अभिनेत्री गीता उनियाल को अंतिम श्रद्धांजलि देते हुए लिखा कि “वीरभड़ माधोसिंह भण्डारी एवं उत्तराखंड फिल्म व एलबमों की नायिका “गीता उनियाल” अपने अभिनय को लेकर भगवान के घर चली गई।

मेरी आज 2 बजे उनसे मुलाकात हुई थी , शायद यह मेरी किस्मत में रहा होगा उनके अंतिम दर्शन करने के लिए और रात सवा आठ बजे गीता अभिनय का अंतिम पन्ना लिखकर हमेशा के लिए छोड़ गई अपनी दास्तां।
ईश्वर उनकी महान आत्मा को शान्ति दें ।”

सुप्रसिद्ध अभिनेत्री गीता उनियाल का जन्म एक सर्व सम्पन्न घर में 14 जनवरी को हुआ। उन्होंने 2011 में विकास उनियाल से प्रेम विवाह किया, उनका एक बेटा भी है जिसका नाम रुद्राश है।

2004 से लेकर वर्तमान तक अर्थात 2023 तक वह कैंसर होने के बावजूद भी डायलिसिस करवाने के बाद पुन: सिने जगत की चकाचौंध में अपने अभिनय का लोहा मनाने आ धमकती। उनकी इस जिजिविषा ने उन्हें जीने की नई कला सिखा दी थी। हर एक उनकी खबरसार लेता कि अब स्वास्थ्य कैसा है, वह मुस्करा कर जबाब देती – पहले से थोड़ा ठीक है लेकिन पहले जैसी बात न रही।

अभिनेत्री गीता उनियाल व मिनी उनियाल की शक्ल इतनी अधिक मिलती है कि सामने इन दोनों में से कोई भी मिल जाए तो समझने में थोड़ा समय लगता था कि क्या मैं गीता से मुखातिब हूं या फिर मिनी से….। वैसे लम्बे समय से गीता उनियाल और मिनी उनियाल ‘गीतमिनी’ के माध्यम से उत्तराखंड संस्कृति संरक्षण व संवर्धन हेतु सिने जगत के माध्यम से लगातार कार्य करती आ रही हैं।

उत्तराखंड व उत्तराखंड से बाहर की लगभग 200 से अधिक एल्बम्स व चुनिंदा गढ़वाली फीचर फिल्मों में काम कर चुकी गीता उनियाल का ये सफ़र काफी चुनौतियों से भी भरा हुआ जरूर रहा। हम सब जानते हैं कि एक छोटे से प्लेटफार्म में अपने आप को भीड़ से अलग साबित करने के लिए कितनी मशक्क़त करनी पड़ती है, लेकिन मेहनत और लगन ने उन्हें नयी दिशायें दी। फिल्म ‘भुली-ए-भुली’ में शानदार अभिनय  ने उन्हें सबके दिलोदिमाग में पर ला दिया । फिर क्या था, रंगमंच, वीडिओ एल्बम व फीचर फिल्मों में उनके अभिनय का सभी लोहा मानने लगे। फ़्योंली जवान ह्वेगे, भगत और घंडियाल, ब्यो, पीड़ा, संजोग, अभी जग्वाल कैरा फिल्मो में भी काम किया इतना ही नहीं उन्होंने ‘द हैवोक’ नाम की हिंदी फिल्म में भी काम किया। उनके इन फिल्मों के माध्यम से अभिनय के कई नये रूप दिखे। इसके अलावा अभिनेत्री गीता उनियाल ने कई सुपरहिट एल्बम जिनमें सकला, खुद, नोनी भावना, छकना बांद, शुभागा, स्याली रौशनी, बिजुमा प्यारी, सुनीता स्याली, बिंदुली, बबिता, त्यारा सों, आंख्यों की तीस, जुन्याली रात इत्यादि एल्बमों के भी काम किया ।

उनके इसी अटूट व मेहनतकश किरदार ने लोक संस्कृति और कलामंच के लिए किये गए उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिए उन्हें कई सम्मान भी मिले हैं, 2009 में पर्वतीय बिगुल की और से बेस्ट एल्बम एक्ट्रेस के हिलीहुड सम्मान से नवाजा गया, जबकि 2010 में फिल्म पीड़ा के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का सामान मिला, इसके अलावा उन्हें ‘युफा अवार्ड 2017’ बेस्ट एक्ट्रेस से भी सम्मानित किया गया है।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES