Thursday, February 29, 2024
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 में दिखा मुख्यमंत्री धामी का नया रूप

उत्तराखंड ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 में दिखा मुख्यमंत्री धामी का नया रूप

उत्तराखंड डेस्टिनेशन। ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 के समापन में दिखा मुख्यमंत्री धामी का नया रूप। सिलक्यारा व इन्वेस्टर समिट पर मीडिया का आभार व्यक्त ।

उत्तराखंड डेस्टिनेशन। ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 के समापन में दिखा मुख्यमंत्री धामी का नया रूप। सिलक्यारा व इन्वेस्टर समिट पर मीडिया का आभार व्यक्त ।

(मनोज इष्टवाल)

आलोचक और आलोचना दोनों ऐसे मुंह हैं जो कभी बंद नहीं किये जा सकते और यह भी सत्य है कि पत्रकारिता अगर सामाजिक मूल्यों और सकारात्मकता के साथ विकास की राह पकड़े तो वह भी टेड़ी नजर से देखी जाती है क्योंकि हर बात पर कमी ढूंढना वर्तमान का मानवीय गुण हो गया है। फिर भी लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ का दायित्व यह होना लाजिम है कि वह देश व प्रदेश हित में लोक कल्याण व लोक समाज के विकास के लिए किये जाने वाले सरकारी प्रयासों की पैरोकारी करे।

डेस्टिनेशन उत्तराखंड नामक थीम को मध्य नजर रखते हुए इस बार मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 में प्रदेश में ढाई लाख करोड़ के इन्वेस्टमेंट का लक्ष्य रखा था लेकिन यह आंकड़ा 3.5 लाख करोड़ पार पहुँच गया। शुरुआत में सभी ढाई लाख करोड़ के इन्वेस्टमेंट को मुंगेरी लाल के सपने जैसा मान रहे थे और अब साढ़े तीन लाख करोड़ पार के जादुई आंकड़े को पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार द्वारा 2018 में किये गये अरबों के इन्वेस्टमेंट की तरह मानते हुए हवा दे रहे हैं। लेकिन तब और अब में यह अंतर है कि तब प्लानिंग में लैंड बैंक शामिल नहीं था। सिंगल विंडो सिस्टम थी लेकिन उसमें कई वर्जनाएं लागू थी जिससे उद्योगपति अपनी फाइल्स पर नोटिंग के लिए महीनों इन्तजार करते रहे और फिर लोप होते चले गये लेकिन इस बार इस से अलग उन सब विकल्पों को ध्यान में रखकर बेहद मजबूती के साथ इस इन्वेस्टर समिट को परिदृशित किया गया है और यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समक्ष ही देश के जाने माने औद्योगिक घराने के विश्व विख्यात बिजनेशमैन खुलकर अपनी हजारों करोड़ की इन्वेस्टमेंट की बात खुले मंच पर रख गये। शायद यही वह नेक नीयति से किये गये प्रयासों की ताकत है जिसे डबल इंजन के रूप में देखना बाकी था।

यह पहला अवसर था जब किसी सफल इन्वेंट के लिए किसी मुख्यमंत्री द्वारा मीडिया का आभार करने के लिए रात्रि भोज के आयोजन पर प्रदेश के मीडिया व राष्ट्रीय मीडिया जगत पर अपना लम्बा चौड़ा बख्तब्य दिया हो व उन श्रमिक कर्मियों के परिजनों के साथ रात्रि भोज में सहभागिता निभाई है जिन्होंने रातदिन मेहनत करके एफआरआई प्रांगण में इतने बिशाल पांडालों के लिए अथक प्रयास किये हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सबसे बड़ी खूबी यह देखने को मिलती है कि प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह से शाबाशी मिलने के बावजूद भी वह बेहद विनम्र व अनुशासित दिखाई दिए। इस उम्र के नेता में एक साथ इतनी खूबियां यह बयान करने को काफी हैं कि आने वाले कल में वह राजनीति की लम्बी व शानदार पारी खेलने को माकूल हैं।

ग्लोबल इन्वेस्टर समिट -2023 की सफलता हो या फिर सिलक्यारा टनल से 17 दिन बाद 41 श्रमिकों को सकुशल बाहर निकालना। मुख्यमंत्री धामी इस दौरान राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मीडिया की नजरों में थे और आलम देखिये कि एक भी मीडिया घराने ने उन्हें नाकारात्मकता से नहीं देखा। इस सब में उनकी टीम ने कितनी मेहनत की इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि उनके सुगठित प्रबंधन पर कहने के लिए या प्रश्न उठाने के लिए कुछ बचा ही नहीं था।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विगत रविवार को एफ. आर. आई. में सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तिका ‘सशक्त नेतृत्व समृद्ध उत्तराखण्ड’ का विमोचन किया। उन्होंने कहा कि विकास पुस्तिका राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं, नीतियों को जन-जन तक पंहुचाने का माध्यम होती है। उन्होंने ऐसे प्रयासों की सराहना करते हुए सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग से अपेक्षा की कि सूचना तकनीकि के इस दौर में इस प्रकार की विकास पुस्तिकाओं को ई-बुक के रूप में भी प्रस्तुत किया जाय, ताकि लोग अपने मोबाइल एवं अन्य माध्यमों से भी जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर सकें तथा योजनाओं से लाभान्वित हो सके।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये मीडिया प्रतिनिधियों का जिस तरह आभार व्यक्त करते हुए जिस तरह अपने शब्द तरासे वह उनकी वाकपटुता व शानदार राजनैतिक समझ को दर्शाता नजर आया क्योंकि उन्होंने मीडियाकर्मियों को धन्यवाद देते हुए अपने भाषण के ज्यादात्तर अंश में प्रदेश व देश के मीडिया के उस साकारात्मक पक्ष की प्रशंसा की जो यकीनन मीडिया से कम ही की जाती है । उन्होंने मीडिया को सरकार और जनता के बीच की एक महत्वपूर्ण कड़ी बताते हुए कहा कि मीडिया सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं, कार्यक्रमों और नीतियों को जनता के मध्य ले जाने का कार्य करती है, तथा जनहित के मुद्दों तथा आम लोगों की समस्याओं की ओर भी सरकार का ध्यान आकर्षित करती है। मुख्यमंत्री ने सिलक्यारा में मीडिया की सकारात्मक भूमिका की भी सराहना की। मुख्यमंत्री ने वैश्विक इंवेस्टर्स समिट के सफल आयोजन के लिये भी सभी का धन्यवाद देकर आभार व्यक्त किया।

मीडिया जगत के लिए यह किसी भी मुख्यमंत्री या सरकार की तरफ से आभार के ऐसे शब्द कम ही सुनने को मिलते हैं क्योंकि इसकी अपेक्षा मीडिया जरा कम ही करता है लेकिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा जिस तरह मीडिया जगत की सार्वजनिक मंच से दिल खोलकर उस साकारात्मक पत्रकारिता की प्रशंसा की गई जो उन्होंने पहले सिलक्यारा सुरंग जैसे कठिन टास्क के दौरान देखी या फिर इन्वेस्टर समिट के दौरान महसूस की। धामी का सबसे मजबूत पक्ष तब सामने दिखा जब उन्हें भी प्रधानमंत्री की भांति कभी सिलक्यारा सुरंग के श्रमिकों के साथ मुख्यमंत्री आवास में इगास-बग्वाल की खुशियां मनाते देखा देखा गया या फिर विगत रविवार को जब वह ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के श्रमिकों व उनके परिजनों के साथ रात्रि भोज के दौरान बातचीत करते व उनका हाल चाल पूछते देखे गये।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad