Monday, June 24, 2024
HomeUncategorizedपंकज त्रिपाठी की मैं अटल हूं की रिलीज तारीख से उठा पर्दा,...

पंकज त्रिपाठी की मैं अटल हूं की रिलीज तारीख से उठा पर्दा, नई झलकियां आईं सामने

भानुशाली प्रोडेक्शन की पहली बायोपिक ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ से हिंदी सिनेमा में धूम मचाने वाले निर्माता विनोद भानुशाली अपनी अगली बायोपिक ‘मैं अटल हूं’ के साथ वापसी कर रहे हैं. फिल्म की रिलीज डेट का ऐलान हो गया है. देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के जीवन पर बनी इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी लीड रोल में हैं.  इसके साथ उन्होंने नई झलकियां साझा की हैं।

फिल्म से पंकज त्रिपाठी का पहला लुक सामने आने के बाद से ही फिल्म ‘मैं अटल हूं’ चर्चा में है. इस फिल्म को रवि जाधव ने निर्देशित किया है और इसे रवि ने ही ऋषि विरमानी के साथ मिलकर लिखा है. फिल्म के निर्माता विनोद भानुशाली की पिछली फिल्म ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ राजस्थान के वकील पी सी सोलंकी पर बेस्ड थी, जिसमें उन्होंने आसाराम बापू को सजा दिलाई थी. फिल्म 19 जनवरी 2024 को रिलीज होगी।

इस साल के फिल्मफेयर ओटीटी पुरस्कारों में सबसे ज्यादा पांच पुरस्कार जीतने वाली फिल्म ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ ने हर किसी का दिल जीत लिया. अब निर्माता विनोद भानुशाली अटल बिहारी वाजपेयी की बायोपिक से फिर धूम मचाएंगे इस साल के फिल्मफेयर ओटीटी पुरस्कारों में सबसे ज्यादा पांच पुरस्कार जीतने वाली फिल्म ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ ने हर किसी का दिल जीत लिया. अब निर्माता विनोद भानुशाली अटल बिहारी वाजपेयी की बायोपिक से फिर धूम मचाएंगे. भानुशाली ने तय कर लिया था कि अगर ये फिल्म पंकज त्रिपाठी नहीं करेंगे तो वह यह फिल्म बनाएंगे ही नहीं। रिपोर्ट के मुताबिक भानुशाली स्टूडियोज के पास बायोपिक फिल्मों की एक लंबी लिस्ट है, जिसमें से शेर सिंह राणा की बायोपिक का ऐलान हो चुका है. इसके अलावा कम से कम चार और बायोपिक पर भानुशाली स्टूडियोज की क्रिएटिव टीम काम कर रही है। भानुशाली ने तय कर लिया था कि अगर ये फिल्म पंकज त्रिपाठी नहीं करेंगे तो वह यह फिल्म बनाएंगे ही नहीं।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES