Saturday, May 18, 2024
HomeUncategorizedवनडे विश्व कप 2023- भारत और श्रीलंका के बीच मुकाबला आज

वनडे विश्व कप 2023- भारत और श्रीलंका के बीच मुकाबला आज

नई दिल्ली।  विश्व कप 2023 में आज दो बार की चैंपियन भारत का सामना 1996 के विजेता श्रीलंका से है। यह इस विश्व कप का 33वां मुकाबला होगा और मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला जाएगा। यह वही मैदान है जहां भारत ने 12 साल पहले श्रीलंका को विश्व कप के फाइनल में शिकस्त दी थी। 2011 विश्व कप के फाइनल में भारत ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया था।

अब जब दोनों टीमें इस मैदान पर आमने-सामने आएंगी तो यादें ताजा हो जाएंगी। भारतीय टीम जहां सातवीं जीत दर्ज कर सेमीफाइनल में जगह बनाने उतरेगी, वहीं श्रीलंकाई टीम 2011 का बदला लेने उतरेगी। साथ ही श्रीलंका को इस विश्व कप में जिंदा रहने के लिए भी जीत जरूरी है। हारने पर टीम की स्थिति खतरे में पड़ जाएगी।

आईसीसी टूर्नामेंट्स में दोनों टीमों के रिकॉर्ड की बात करें तो दोनों टीमें कुल 14 बार आमने-सामने आ चुकी हैं। इनमें चैंपियंस ट्रॉफी, वनडे विश्व कप और टी20 विश्व कप शामिल है। आईसीसी टूर्नामेंट में दोनों टीमें सबसे पहले 1979 में भिड़ी थीं। श्रीलंका ने मैनचेस्टर में खेले गए उस मुकाबले में भारत को 47 रन से हराया था। भारत का श्रीलंका के खिलाफ आईसीसी टूर्नामेंट्स में रिकॉर्ड खराब रहा है। 14 मैचों में से सात मैच श्रीलंका ने जीते हैं, जबकि भारत ने पांच मुकाबले जीते हैं। दो मैचों का कोई नतीजा नहीं निकला।
दोनों टीमों के बीच आईसीसी टूर्नामेंट के 14 मैचों में से वनडे विश्व कप में नौ मुकाबले खेले गए हैं, जबकि चैंपियंस ट्रॉफी में तीन मैच और टी20 विश्व कप में दो मुकाबले खेले गए हैं। वनडे विश्व कप में दोनों के बीच खेले गए नौ मैचों में से चार मैच भारत और चार मैच श्रीलंका ने जीते हैं। एक मैच का कोई नतीजा नहीं निकला। भारतीय सरजमीं पर दोनों के बीच विश्व कप के तीन मैच खेले गए हैं। इनमें से श्रीलंका ने दो मुकाबले जीते, जबकि भारत को एक में जीत मिली। चैंपियंस ट्रॉफी में तीन मुकाबले में से भारत ने दो जीते हैं, जबकि एक का कोई नतीजा नहीं निकला। टी20 विश्व कप में भारत आज तक श्रीलंका से कोई मुकाबला नहीं जीत पाया है।
Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES