Thursday, February 29, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिजय मद्यो देवता!-- मद्दमहेश्वर के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुले, बाबा...

जय मद्यो देवता!– मद्दमहेश्वर के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुले, बाबा के जयकारों से गुंजयमान हुआ धाम…।

जय मद्यो देवता!– मद्दमहेश्वर के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुले, बाबा के जयकारों से गुंजयमान हुआ धाम…।

ग्राउंड जीरो से संजय चौहान!

चार धामों के कपाट खुलने के उपरांत पंच केदार में द्वितीय केदार बाबा मद्दमहेश्वर के कपाट भी आज सुबह 11 बजे पौराणिक रीति रिवाजों, वैदिक मंत्रोचार और विधि विधान के साथ आगामी 6 महीने के लिए आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिये गये हैं। बाबा मद्दमहेश्वर के कपाट खुलने के अवसर पर रांसी, गौंडार, राउलैक, मनसूना, ऊखीमठ सहित विभिन्न जगहों से सैकड़ों श्रद्धालु धाम पहुंचे। धाम में विगत दो सालों से पसरा सन्नाटा भी समाप्त हुआ। इस दौरान बाबा का पूरा धाम हर हर महादेव और बाबा के जयकारों से गूंज उठा। बीकेटीसी के पूर्व सदस्य शिव सिंह रावत और स्थानीय निवासी रवीन्द्र भट्ट नें बताया की आज सुबह भगवान मदमहेश्वर की उत्सव डोली गोंडार गांव से प्रातः प्रस्थान कर मदमहेश्वर धाम पहुंची। डोली के साथ सैकड़ो श्रद्धालु भी हर हर महादेव और के बाबा मद्दमहेश्वर के जयकारों लगाते हुये चलते रहे।

ये है मान्यता!

रूद्रप्रयाग जनपद की मधु गंगा घाटी में चौखंभा पर्वत की तलहटी में 3300 मीटर की ऊंचाई स्थित है द्वितीय केदार भगवान मदमहेश्वर का मंदिर। यहां पर भगवान शिव की पूजा नाभि लिंगम् के रूप में की जाती है। यहां के जल के बारे में कहा जाता है कि इस पवित्र जल की कुछ बूंदे ही मोक्ष के लिए पर्याप्त मानी जाती हैं। इस तीर्थ के विषय में कहा गया है कि जो व्यक्ति भक्ति से या बिना भक्ति के ही मदमहेश्वर के माहात्म्य को पढ़ता या सुनता है उसे शिवलोक की प्राप्ति होती है। साथ ही जो व्यक्ति इस क्षेत्र में पिंडदान करता है, वह पिता की सौ पीढ़ी पहले के और सौ पीढ़ी बाद के तथा सौ पीढ़ी माता के तथा सौ पीढ़ी श्वसुर के वंशजों को तरा देता है।

प्रकृति की अनमोल नेमत है बाबा का धाम !

हिमालय में मौजूद बाबा का धाम प्राकृतिक सौंदर्य से अटा पडा है। बर्फ से ढकी चोटियां, मखमली घास के बुग्याल, कल कल बहते पानी के बडे बडे झरने, देवदार के घने जंगल आपको बरबस ही आकर्षित करते हैं। खासतौर पर गौंडार गांव से मद्दमहेश्वर धाम तक का रास्ता पहाडों के शौकीनो के लिए ऐशगाह से कम नहीं है। गौण्डार से करीब डेढ किलोमीटर आगे यात्रियों के रुकने के लिए खटरा चट्टी है। यहां से मदमहेश्वर की दूरी सात किलोमीटर है। इसके आगे नानू चट्टी, कुन चट्टी के बाद मदमहेश्वर धाम आता है। इस दौरान पूरे रास्ते में प्रकृति के अनगिनत नज़ारे देखने को मिलते हैं।

बूढा मदमहेश्वर!

मदमहेश्वर के पास ही एक चोटी है। इसका रास्ता कम ढलान वाला है। पेड भी नहीं हैं। एक तरह का बुग्याल है। उस चोटी को बूढा मदमहेश्वर कहते हैं। डेढ-दो किलोमीटर चलना पडता है। जैसे-जैसे ऊपर चढते जाते हैं तो चौखंबा के दर्शन होने लगते हैं। बिल्कुल ऊपर पहुंचकर महसूस होता है कि हम दुनिया की छत पर पहुंच गए हैं। दूर ऊखीमठ और गुप्तकाशी भी दिखाई देते हैं। चौखंभा चोटी तो ऐसे दिखती है मानो हाथ बढाकर उसे छू लो।

अगर आप के पास भी समय हो तो चले आइये बाबा मद्दमहेश्वर के धाम..

जय मद्यो देवता की
भोले की कृपा बनी रहे…

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES