Sunday, April 14, 2024
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड के इतिहास में पहली बार किसानों को भेजा जा रहा अध्ययन...

उत्तराखंड के इतिहास में पहली बार किसानों को भेजा जा रहा अध्ययन भ्रमण पर

उत्तराखंड से 13 किसानों का दल स्टडी टूर पर हिमाचल रवाना

हिमाचल में विभिन्न संस्थाओं में बागवानी का करेंगे अध्ययन

देहरादून। तेरह किसानों का दल हिमाचल के लिए स्टडी टूर पर रवाना हुआ। यह अध्ययन भ्रमण सहकारिता विभाग के प्रादेशिक कोऑपरेटिव यूनियन के माध्यम से भेजा जा रहा है। लौटने पर सभी किसान अपने जनपदों में गोष्टी के माध्यम से अन्य किसानों को भी प्रशिक्षण देंगे। सहकारिता विभाग के द्वारा प्रत्येक जनपद से दो उत्कृष्ट मॉडल किसानों को अध्ययन भ्रमण हेतु भेजा जा रहा है। इन किसानों का चयन सभी जनपदों के जिलाधिकारी की अध्यक्षता में चयन कमेटी द्वारा किया गया है  गुरुवार को निबंधक मुख्यालय मियांवाला में अपर निबंधक ईरा उप्रेती संयुक्त निबंधक एमपी त्रिपाठी  द्वारा 13 सदस्यीय किसानों के दल को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

इस अवसर पर प्रबंध निदेशक प्रादेशिक कोऑपरेटिव यूनियन मान सिंह सैनी भी उपस्थित रहे प्रादेशिक कोऑपरेटिव यूनियन के प्रबंध निदेशक मानसिंह सैनी ने बताया किसानों का यह दल पहले दिन 27 तारीख को  सोलन स्थित डॉक्टर वाई एस परमार यूनिवर्सिटी का भ्रमण करेंगे उसके पश्चात द्वितीय दिवस पर रीजनल हॉर्टिकल्चर रिसर्च और ट्रेनिंग स्टेशन शिमला में अध्ययन करेंगे और 29 अक्टूबर को कृषि विज्ञान केंद्र शिमला का भ्रमण कर  किसानों के पर्वतीय फल सेब  कीवी के बगीचों में ग्राउंड जीरो पर अध्ययन करेंगे।

उसके पश्चात दूसरा दल 28 अक्टूबर को गुजरात को हवाई मार्ग से रवाना किया जाएगा जहां दुग्ध दुग्ध उत्पादों के क्षेत्र में किसानों के द्वारा अध्ययन भ्रमण किया जाएगा। अध्ययन भ्रमण पर जा रहे किसानों ने सहकारिता मंत्री डॉ धन सिंह रावत और सहकारिता विभाग की भूरि भूरि प्रशंसा की किसानों ने कहा उत्तराखंड में यह पहली बार है जब किसानों को अध्ययन भ्रमण पर भेजा जा रहा है इस अध्ययन भ्रमण के परिणाम निश्चित ही किसानों के लिए लाभकारी होंगे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES