Monday, June 24, 2024
HomeUncategorizedदेश पर दो चक्रवाती तूफानों का मंडराया खतरा, कुछ राज्यों पर पड़ेगा...

देश पर दो चक्रवाती तूफानों का मंडराया खतरा, कुछ राज्यों पर पड़ेगा असर

नई दिल्ली। देशभर में मौसम का मिजाज सर्द हो चला है. कई राज्यों में ठंडी हवाओं ने लोगों को गर्म कपड़े पहनने के लिए मजबूर कर दिया है। हालांकि आधा नवंबर बीत गया है और अब तक उम्मीद के मुताबिक ठंड नहीं पड़ी है। इस बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की ओर से एक और बड़ी चेतावनी ने सभी को चौंका दिया है।

दरअसल ठंड की दस्तक के बीच भारत पर दो चक्रवाती तूफानों का खतरा मंडरा रहा है। आईएमडी के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। ऐसे में चक्रवाती तूफान उठने का  खतरा मंडरा रहा है। यही वजह है कि कुछ राज्यों को लेकर मौसम विभाग की ओर से अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग की मानें तो बंगाल की खाड़ी के ऊपर बन रहे कम दबाव के क्षेत्र के चलते समुद्र तटीय इलाकों के नजदीकी राज्यों में मुश्किलें बढ़ सकती हैं। बताया जा रहा है कि ये कम दबाव का क्षेत्र आगे बढक़र एक चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है।

आईएमडी के मुताबिक 15 और 16 नवंबर यानी दो दिन चक्रवाती तूफान को लेकर अहम बताए जा रहे हैं। मौसम विभाग ने बताया कि ये साइक्लोन 15 नवंबर को आंध्र प्रदेश तट के पास पहुंच जाएगा, इसके साथ ही इस तूफान की रफ्तार में इजाफा होगा और संभावना जताई जा रही है कि अगले 24 घंटे में ये विकराल रूप ले सकता है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों की मानें तो कम दबाव का क्षेत्र 16 नवंबर को आंध्र प्रदेश तट से आगे बढ़ेगा और इसके पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩे की संभावना है। इसके बाद इस सिस्टम के उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर जाने के आसार हैं। ऐसे में ये ओडिशा के तट की ओर पहुंचेगा। यानी आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में इस तूफान का असर देखने को मिलेगा।

मौसम विभाग के मुताबिक, इन राज्यों में खास तौर पर तटीय इलाकों के आस-पास अच्छी बारिश की संभावना बनी हुई है। कई इलाकों में तेज हवाएं भी चल सकती हैं। जबकि कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के आसार हैं।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES