Monday, June 24, 2024
Homeउत्तराखंडकेदारनाथ यात्रा मार्ग के पार्किंग संचालक पर 50 हजार का जुर्माना

केदारनाथ यात्रा मार्ग के पार्किंग संचालक पर 50 हजार का जुर्माना

सीतापुर पार्किंग में समुचित साफ-सफाई व्यवस्था न होने एवं जल-भराव होने की स्थिति के दृष्टिगत पार्किंग संचालक पर लगाया गया 50 हजार का जुर्माना

रूद्रप्रयाग (हि. डिस्कवर)

  • सीतापुर पार्किंग में समुचित साफ-सफाई व्यवस्था न होने एवं जल-भराव होने की स्थिति के दृष्टिगत पार्किंग संचालक पर लगाया गया 50 हजार का जुर्माना

श्री केदारनाथ धाम यात्रा मार्ग पर स्वच्छता व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन प्रतिबद्ध है। यात्रा के लिहाज से सीतापुर पार्किंग एक महत्वपूर्ण स्थल है जहां रोजाना सैकड़ो छोटे-बड़े वाहनों की आवाजाही रहती है। कुछ समय से पार्किंग के सीवेज सिस्टम में समस्या के चलते लीकेज एवं जल भराव हो रहा था। पार्किंग संचालक द्वारा नियमित साफ-सफाई एवं मेंटेनेंस न किए जाने पर 50 हजार रूपए का जुर्माना लगाया गया।


जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने अवगत कराया है कि श्री केदारनाथ धाम यात्रा वर्ष-2024 के सफल संचालन तथा पैदल यात्रा मार्ग पर स्वच्छता व्यवस्था बनाये जाने के दृष्टिगत शनिवार को स्थान सीतापुर पार्किंग का स्थलीय निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान पार्किंग में अत्यधिक मात्रा मे गन्दगी, कचरा, पानी, सीवेज इत्यादि पाया गया। इससे पूर्व भी सीतापुर पार्किंग के संचालकों कार्मिकों को स्वच्छता व्यवस्था दुरूस्त रखे जाने के निर्देश दिए गए थे। इसके बावजूद उक्त प्रकरण पर कोई संज्ञान नही लिया गया तथा पार्किंग स्थल पर काफी गंदगी एवं सीवरेज का पानी के कारण जल भराव की स्थिति से वातावरण दूषित हो रहा था जिसके दृष्टिगत पार्किंग संचालक पर सख्त कार्रवाई करते हुए 50 हजार का जुर्माना लगाते हुए सीतापुर पार्किंग के संचालकों को निर्देशित किया गया कि पार्किंग स्थल की समुचित सफाई व्यवस्था के दृष्टिगत कार्मिकों की संख्या में वृद्धि करना सुनिश्चित करें। साथ ही संबंधित को चेतावनी देते हुए स्वच्छता के दृष्टिगत कोताही न बरतने के निर्देश दिए गए। पार्किंग स्थ्ला से जल भराव एवं कचरे को साफ करवा दिया गया है ताकि यात्रियों को कोई समस्या न हो।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES