Wednesday, June 26, 2024
Homeउत्तराखंड300 हैक्टेयर भूमि देने के लिए ग्रामीणों का आभार। बहुप्रतीक्षित एनआईटी संस्थान...

300 हैक्टेयर भूमि देने के लिए ग्रामीणों का आभार। बहुप्रतीक्षित एनआईटी संस्थान के द्वारा पहाड़ को विकास की संभावनाएँ तलाशी जाएंगी- डॉ. निशंक।

सुमाड़ी पौड़ी गढ़वाल (हि. डिस्कवर)।

प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड त्रिवेन्द्र सिंह रावत, मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार डाॅ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक‘ ने आज ग्राम सुमाड़ी पौड़ी गढ़वाल स्थित राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) उत्तराखण्ड के स्थायी परिसर निर्माण का विधिवत रूप से भूमि पूजन एवं शिलान्यास किया।

इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष भाजपा/सांसद नैनीताल-ऊधमसिंहनगर अजय भट्ट, सांसद गढ़वाल तीरथ सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री उत्तराखण्ड हरक सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री उत्तराखण्ड सुबोध उनियाल, सहकारिता, प्रोटोकाॅल, दुग्ध विकास एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उत्तराखण्ड डाॅ. धन सिंह रावत सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

इस दौरान राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने एनआईटी परिसर की सीट ले-आॅउट प्लान में साक्ष्य के रूप में संयुक्त हस्ताक्षर किये। साथ ही स्कूली बच्चों ने स्वागत कार्यक्रम की प्रस्तुति दी।

केन्द्रीय मंत्री डाॅ. निशंक ने आम जनमानस/ग्रामीणों को गढ़वाली भाषा में सम्बोधित करते हुए ग्रामीणों को एनआईटी कैम्पस की स्थापना हेतु 300 हेक्टियर भूमि देने पर आभार व्यक्त करते हुए एनआईटी के शिलान्यास की बधाई दी। उन्होंने कहा कि एक हजार करोड़ की लागत से एनआईटी कैम्पस दो वर्ष में बनकर तैयार होगा। कहा कि सुमाड़ी की भूमि सिद्ध भूमि है, यहां के लोग विभिन्न शीर्ष पदों पर विराजमान हैं। एनआईटी के शुभारम्भ होने से यहां के बच्चे राष्ट्रीय-अन्र्तराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त करेंगे।

इस उपरान्त राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री सहित समस्त गणमान्य व्यक्ति जीएनटीआई मैदान श्रीनगर पौड़ी में आयोजित जनसभा स्थल पहुंचे। जहां उन्होंने विधिवत दीप प्रज्जवलित कर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। सर्वप्रथम सभी मंचासीन अति विशिष्ठ, विशिष्ठ गणमान्य व्यक्तियों को स्मृति चिन्ह्, शाॅल एवं पुष्प गुच्छ भंेट कर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि आज बहुत ही प्रसन्नता की बात है कि जनपद पौड़ी के अन्तर्गत वर्षों से जिस राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान की प्रतीक्षा हो रही थी, उसका आज सुमाड़ी श्रीनगर मंे शिलान्यास हुआ है। उन्होंने मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड त्रिवेन्द्र सिंह रावत, मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार डाॅ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक‘, सहकारिता, प्रोटोकाॅल, दुग्ध विकास एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री उत्तराखण्ड डाॅ. धन सिंह रावत को बधाई देते हुए कहा कि उन्हीं के अथक प्रयासों से यह शुभ मुर्हूत आया है। उन्होंने कहा कि यहाँ की जनता को एनआईटी के रूप मंे जो तोहफा मिला है, इसके लिए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का आभार व्यक्त करती हूँ। कहा कि यहाँ गंगोत्री, यमनोत्री, अलकानन्दा, भगीरथी, गंगा आदि नादियां बहती है और उनके साथ-साथ ज्ञान की गंगा भी बहती है। यहाँ पर एम्स, आईआईटी, एनआईटी जैसे संस्थान हैं। एनआईटी को पूर्ण करने हेतु 2022 तक का लक्ष्य रखा गया है और यह तभी सम्भव है जब नियमित रूप से इसके निर्माण कार्यों की निगरानी हो।

उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी के माध्यम से ही आर्थिकी, कृषि आदि क्षेत्रों में प्रगति कर देश विकास करता है। आशा करती हूँ कि राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, सुमाड़ी राष्ट्रीय-अन्र्तराष्ट्रीय स्तर पर एक पहचान बना सके इसके लिए सरकार तथा प्रबन्धन को निष्ठापूर्वक कार्य करना होगा। एनआईटी जैसे संस्थानों का मुख्य उद्देश्य इंजीनियर के माध्यम से देश की विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करना है। एनआईटी के बनने से ग्रामीण क्षेत्रांे के विकास में वृद्धि होगी, विशेषकर महिलाओं और श्रीनगर के लोगों को लाभ मिलेगा।

प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश की राज्यपाल द्वारा आज सुमाड़ी में एनआईटी का शिलान्यास करने के साथ ही जो कुछ लोगों के मन में संशय था कि एनआईटी यहां रहेगा या नहीं वह संशय भी आज समाप्त हो गया है। उन्होंने कहा कि श्रीनगर केन्द्र बिन्दु है और यहाँ पर आॅलवेदर रोड़ और रेलवे लाइन का कार्य बहुत तेजी से चल रहा है। कहा कि रेलवे लाइन 80 प्रतिशत टनल में होगी, जबकि 20 प्रतिशत टनल से बाहर होगी। कहा कि वर्ष 2022 तक रेलवे लाइन का कार्य श्रीनगर तक तथा 2024 तक कर्णप्रयाग तक पहुंच जाये, इस हेतु रेलवे लाइन का कार्य बड़ी तेजी से चल रहा है। कहा कि रेलवे लाइन बनने से यहां पर रेलवे स्टेशन के साथ ही भविष्य में उद्योग भी विकसित होंगे, जिससे क्षेत्र का चहुमुखी विकास होगा। कहा कि 12 हजार करोड़ से आॅल वेदर रोड़ का कार्य चल रहा है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रदेश के विकास के लिए शैक्षणिक संस्थान, एयर कनेक्टीविटी, रेलवे लाइन, आॅल वेदर रोड़ आदि अनेक सुविधाएं उपलब्ध कराई है और राज्य सरकार पूरी मेहनत के साथ उन्हें पूर्ण करने हेतु कार्य कर रही है। कहा कि मेडिकल आदि क्षेत्रों के मैधावी 25 प्रतिशत बच्चों के लिए प्रदेश सरकार ने ‘मुख्यमंत्री प्रतिभा सम्मान‘ एक विशेष योजना बनाई है। वहीं उत्तराखण्ड के हाईस्कूल के मैधावी 25 प्रतिशत बच्चों को देशाटन करायेंगे। कहा कि एनआईटी के लिए भूमि, पानी की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी, जिसके तहत पानी के लिए 20 करोड़ रूपये में से 05 करोड़ रिलीज कर दिया गया है। साथ ही एनआईटी के लिए इन्टरनल रोड़ तथा बिजली के लिए 30 करोड़ रूपये का खर्च का वहन भी राज्य सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि कार्यदायी संस्था समय से कार्य पूर्ण करें, उन्हें राज्य सरकार से पूर्ण सहयोग मिलेगा।

देश के मानव संसाधन विकास मंत्री डाॅ. निशंक ने अपने संबोधन में देवभूमि की अलकनंदा नदी के तट पर आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य और प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कार्यों की सराहना की। उन्होंने सुमाड़ी में बनाए जाने वाले बहुप्रतीक्षित एनआईटी संस्थान के द्वारा पहाड़ को विकास की संभावनाओं पर रोशनी डाली। डॉ. निशंक ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री के प्रयासों के द्वारा ही एनआईटी का शिलान्यास और भूमि पूजन का कार्यक्रम सम्भव हो पाया है। उन्होंने कहा कि उनके मुख्यमंत्री कार्यकाल वर्ष 2009 के दौरान आईआईएम और एनआईटी की स्थापना किये जाने के प्रस्ताव बनाए गए थे। उन्होंने कहा कि पहाड़ के युवाओं को एनआईटी से बहुत लाभ प्राप्त होगा इस लिहाज से उसे श्रीनगर में स्थापित किया जाना चाहिए। जबकि आईआईएम को काशीपुर में स्थापित किया गया। उन्होंने कहा कि सुमाड़ी में बनाए जाने वाले एनआईटी को राष्ट्रीय ही नहीं बल्कि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का तकनीकी संस्थान बनाया जाएगा, जिससे कि सूबे के सभी होनहार युवाओं को इस एनआईटी को माध्यम से देश विदेश में भी पहचान प्राप्त हो सकेगी। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में एनआईटी श्रीनगर के कैम्पस के अध्ययनरत छात्र ने राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई है, यही नहीं इस छात्र ने तीस लाख पर माह के पैकेज पर नौकरी भी प्राप्त कर ली है। उन्होंने ऐसे मेधावी छात्र को बधाई देते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की।

उन्होंने कहा कि उनका सपना है कि सूबे के सभी बच्चे ऐसे ही उच्च संस्थानों के सर्वोच्च पदों पर आसीन होकर राज्य का नाम रोशन करें। कहा कि पहले यहां के बच्चों को ऐसे संस्थानों में प्रवेश नहीं मिल पाता था अथवा आर्थिक परेशानियों के चलते वे तकनीकी शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते थे। लेकिन अब ऐसे ही युवाओं को अपने घर से ही तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने का बेहतर अवसर प्राप्त हुआ है। उन्होंने युवाओं से ऐसे ही अवसरों का बेहतर लाभ अर्जित करने का आह्वान किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नये भारत निर्माण के संकल्प को दोहराया। मंच से प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताते हुए उन्होंने राज्य के युवाओं से प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया, स्वच्छ भारत, स्वस्थ्य भारत तथा सशक्त भारत, व श्रेष्ठ भारत निर्माण के संकल्प में अपना योगदान देने का भी आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सुमाड़ी के एनआईटी परिसर निर्माण के लिए एचआरडी मंत्रालय को करीब एक हजार करोड़ रूपये प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि एनआईटी परिसर को सभी सुविधाओं से लैस किया जाएगा। यही नहीं परिसर के भीतर एक केंद्रीय विद्यालय भी स्थापित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एनआईटी श्रीनगर से जो बच्चे जयपुर पढ़ रहे हैं, परिसर का शीघ्र ही निर्माण होते ही उन्हें सुमाड़ी में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

वहीं गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने अपने सम्बोधन में कहा कि एनआईटी के शुभारम्भ को लेकर उनके द्वारा पहले ही सत्र से पैरवी गई। शिक्षा के क्षेत्र में पहाड़ की भौगोलिक दृष्टिगत रखते हुए बेहतर कार्य करने की बात कही। प्रदेश के सहकारिता, प्रोटोकाॅल, दुग्ध विकास एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उत्तराखण्ड डाॅ. धन सिंह रावत ने अपने सम्बोधन में कहा कि केन्द्रीय मंत्री डाॅ. निशंक द्वारा अपने मुख्यमंत्री काल में वर्ष 2009 में भूमि चयन करवाया गया था। वहीं कैबिनेट मंत्री उत्तराखण्ड हरक सिंह रावत ने एनआईटी के लिए भूमि लेने की बात कही गई थी।

इस मौके विधायक लैंसडोन दिलीप सिंह रावत, कर्णप्रयाग सुरेन्द्र सिंह नेगी, रूद्रप्रयाग भरत सिंह चौधरी, थराली मुन्नी देवी, देवप्रयाग विनोद कण्डारी, निदेशक आईआईटी रूड़की प्रो. अजित कुमार चर्तुवेदी, अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश, गढ़वाल आयुक्त रविनाथ रमन, जिलाधिकारी पौड़ी धीराज सिंह गर्ब्याल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिलीप सिंह कुंवर, मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना, कुलपति हे.न.ब.ग. वि.वि. श्रीनगर गढ़वाल प्रो. अन्नपूर्णा नौटियाल, प्राचार्य मेडिकल काॅलेज श्रीनगर गढ़वाल डाॅ. सी.एम.एस. रावत, नगरपालिका अध्यक्ष पौड़ी यशपाल बेनाम, श्रीनगर पूनम तिवारी सहित भाजपा कार्यकर्ता, जनपद स्तरीय अधिकारी, स्कूली बच्चे एवं जन समूह मौजूद था।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES