Wednesday, May 29, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिसिडनी में प्रधानमंत्री क़े समक्ष प्रीति इष्टवाल सहित 15 महिलाओं ने प्रस्तुत...

सिडनी में प्रधानमंत्री क़े समक्ष प्रीति इष्टवाल सहित 15 महिलाओं ने प्रस्तुत की गढ़-कुमाऊं की साझा सांस्कृतिक विरासत।

सिडनी में प्रधानमंत्री क़े समक्ष प्रीति इष्टवाल सहित 15 महिलाओं ने प्रस्तुत की गढ़-कुमाऊं की साझा सांस्कृतिक विरासत।

(हिमालयन डिस्कवर स्पेशियल)

यह उत्तराखंड क़े परिपेक्ष में ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण देश को गौरान्वित करने वाला क्षण था जब विदेश की धरती पर देश क़े प्रधानमंत्री क़े स्वागत में उत्तराखंड की सांस्कृतिक झलक का प्रस्तुतीकरण हुआ है। G-7 में शिरकत करने जापान पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी यात्रा क़े अंतिम चरण में ऑस्ट्रेलिया पहुंचे थे, जहाँ उनका भव्य स्वागत हुआ था।

सिडनी स्टेडियम में भारतीय प्रवासियों का उत्साह देख ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बॉस बताया।
सिडनी इंडोर स्टेडियम में प्रधानमंत्री मोदी क़े पहुंचते ही वहां मौजूद करीब 21 हजार भारतवंशियों ने भारत माता की जय, वंदेमातरम और मोदी-मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिए।

इस दौरान ऑस्ट्रेलिया क़े प्रधानमंत्री अंथनी अल्बनीज ने प्रधानमंत्री मोदी को गले लगाते हुए कहा कि मोदी की लोकप्रियता अमेरिकी गायक-गीतकार स्प्रिंगस्टीन जैसी है। आखिरी बार कुडोस बैंक एरिना में स्प्रिंगस्टीन को देखा था। तब उन्हें भी ऐसा स्वागत नहीं मिला था, जैसा मोदी को मिला। स्प्रिंगस्टीन को फैन बॉस बुलाते हैं। अल्बनीज ने ‘प्रिय मित्र’ मोदी को ऑस्ट्रेलिया में दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की भावना लाने के लिए।

यह बेहद रोमांचक क्षण था जब प्रधानमंत्री मोदी क़े स्वागत में उमड़े सिडनी स्टेडियम क़े विशाल मंच पर उत्तराखंड की लोक संस्कृति की झलक देखने को मिली। ऑस्ट्रेलिया में रह रही 15 भारतीय महिलाओं में प्रीति इष्टवाल, मीरा रावत, अनीता सुन्द्रियाल, माधवी नेगी, उर्मिला कंडवाल, अनुराधा बिष्ट, रोजी चौहान, चेतना भट्ट, लक्ष्मी शर्मा, निशा रावत, शालिनी बंदूनी, ज्योति बिष्ट, रूचि सेमवाल, पल्लवी बर्त्वाल, रजनी उपाध्याय ने इस दौरान गढ़वाल कुमाऊँ का प्रतिनिधित्व करते परिधान व आभूषण पहनकर विशाल मंच में नीति-माणा घाटी का लोकप्रिय लोकगीत जिसे लोकगायक किशन महिपाल का गाया लोकगीत “किंगर का डाला घुघुती, बांगर का छाला घुघुती” पर लोक नृत्य प्रस्तुत कर उत्तराखंडी संस्कृति को विश्व पटल क़े समक्ष रखकर उत्तराखंड व देश का मान बढ़ाया है। शायद ऑस्ट्रेलिया की थिंक टीम व प्रधानमंत्री अन्थोनी अल्बनीज यह बात अच्छे से जानते थे कि प्रधानमंत्री मोदी उत्तराखंड से बेहद प्यार करते हैं।

इस गीत की सबसे बड़ी ख़ूबसूरती यह थी कि इसके परिधानों में पिछोड़ा कुमाऊँ का था तो लोकगीत गढ़वाल का…। शायद लोकगीत को चयन करते इस बात का बिशेष ख्याल रखा गया था कि सम्पूर्ण उत्तराखंड को एक साथ मंच में रखने का इस से बढ़िया जरिया कोई नहीं हो सकता। हिमालयन डिस्कवर की ओर से प्रीति इष्टवाल व सम्पूर्ण टीम को बहुत बहुत शुभकामनायें।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES