Thursday, February 29, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिसंत समाज व देश की राजनीति के शीर्ष व्यक्तित्वों ने स्वामी सत्यमित्रानंद...

संत समाज व देश की राजनीति के शीर्ष व्यक्तित्वों ने स्वामी सत्यमित्रानंद गिरी को श्रद्धांजली अर्पित की।

हरिद्वार/देहरादून 26 जून, 2019 (हि.डिस्कवर)
भारत माता जनहित ट्रस्ट के संस्थापक पद्मभूषण ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को भारत माता ट्रस्ट राघव कुटीर हरीपुर कला हरिद्वार में  बुधवार को बडी संख्या में संत समाज, देश विदेश से आए उनके अनुयायियों नें उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की। 

ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को देश के रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक, राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य, विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचन्द अग्रवाल, मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, ने उन्हें श्रद्धांजली दी।

ब्रहमलीन स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि को श्रद्धांजली देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी जी महाराज ने पूरे विश्व में ज्ञान, धर्म व आध्यात्म की पताका फहराकर सनातन संस्कृति के प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनका जीवन जनकल्याण के लिए समर्पित रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरिद्वार में उनके द्वारा स्थापित भारत माता मन्दिर उनके देश प्रेम, सैन्य व सन्त परम्परा के सम्मान के साथ ही देश के आध्यात्मिक, सामाजिक व सांस्कृतिक विरासत से भावी पीढ़ी को अपनी समृद्ध विरासत से जोड़ने में निश्चित रूप से मददगार रहेगा। यह मन्दिर उनकी स्मृतियों को भी चिरस्थायी बनाये रखेगा।
केबीनेट मंत्री श्री सतपाल महाराज, श्री मदन कौशिक, मेयर श्रीमती अनीता शर्मा, सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय भट्ट, पूर्व मुख्यमंत्री श्री भगत सिंह कोश्यारी, स्वामी रामदेव, आचार्य बालकृष्ण, ने भी महन्त स्वामी सत्यमित्रा नन्द  गिरि को श्रंदाजली अर्पित की।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES