Thursday, February 22, 2024
Homeउत्तराखंडश्री बद्रीनाथ जी की आरती के रचनाकार स्व. धन सिंह बर्त्वाल जी...

श्री बद्रीनाथ जी की आरती के रचनाकार स्व. धन सिंह बर्त्वाल जी को किया सम्मानित।

चमोली/ देहरादून 2 फरवरी 2020 (हि. डिस्कवर)

श्री बदरी केदार मन्दिर समिति द्वारा श्री बद्रीनाथ जी की स्तुति के रचनाकार स्व. धन सिंह बर्त्वाल जी के परिवार को सम्मानित किया गया। समिति द्वारा आयोजित समारोह में समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, उपाध्यक्ष अशोक खत्री, चार धाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष आचार्य शिव प्रसाद मंमगाई जी द्वारा स्व. धन सिंह बर्त्वाल के परिवारजनों को सम्मानित किया गया।

श्री बद्री केदार मन्दिर समिति द्वारा बद्रीनाथ जी की आरती “पवन मंद सुगंध शीतल, हेम मंदिर शोभितम” के रचनाकार स्वर्गीय धन सिंह बर्त्वाल जी के परपौत्र व आरती की पाण्डुलिपि के संरक्षक महेन्द्र सिंह बर्त्वाल व रचनाकार की सत्यता को लेकर किये गए शोध व महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिये यूसैक निदेशक प्रो. महेंद्र प्रताप सिंह बिष्ट, सामाजिक कार्यकर्ता गम्भीर सिंह बिष्ट व आचार्य कृष्णानंद नौटियाल को प्रशस्ति व सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया गया।

आपको बताते चलें कि गत वर्ष श्री बद्रीनाथ जी की आरती के असल रचानाकर की सच्चाई सामने आने के बाद देश और दुनिया को पता चला था कि आरती के रचनाकार रुद्रप्रयाग जिले के सतेराखाल-स्यूपुरी निवासी स्व. धन सिंह बर्त्वाल हैं जिनके द्वारा 1881 में आरती की रचना की गयी थी।

कार्यक्रम में अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने आरती के लेखक को नमन करते हुए कहा कि समिति द्वारा बोर्ड की पिछ्ली बैठक में प्रस्ताव पारित कर आधिकारिक मान्यता दी कि आरती के लेखक स्व. धन सिंह बर्त्वाल ही हैं।

उपाध्यक्ष श्री अशोक खत्री ने कहा कि यह करोड़ों बदरी भक्तों का भी सम्मान है और हिन्दू समाज, उत्तराखंड, रुद्रप्रयाग जिले व तल्लानागपुर के लिये भी गौरव का क्षण है।

कार्यक्रम में नगर निगम महापौर सुनील उनियाल गामा, टिहरी राजपरिवार के प्रतिनिधि ठाकुर भवानी प्रताप सिंह,
उत्तराखंड सरकार में दर्जधारी श्री ब्रजभूषण गैरौला, जीएमवीएन अध्यक्ष कृष्ण कान्त सिंघल, अनिल ध्यानी, उपेन्द्र बर्त्वाल, अरुण मैठाणी, चन्द्रकला ध्यानी, यशवंत फर्स्वाण, राकेश कुंवर समेत मन्दिर समिति के सभी अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad