Thursday, February 29, 2024
Homeउत्तराखंडवीर चन्द्र सिंह गढवाली के गाँव मासों में केन्द्रीय विद्यालय का प्रस्ताव!

वीर चन्द्र सिंह गढवाली के गाँव मासों में केन्द्रीय विद्यालय का प्रस्ताव!

देहरादून   24  दिसम्बर,  2019(हि. डिस्कवर)

प्रदेश के सहकारिता, उच्च शिक्षा, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकाॅल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 धन सिंह रावत ने विधान सभा सभाकक्ष में बैठक लेते हुए कहा कि 2020 तक पूरे प्रदेश में हर स्कूल में पानी, फर्नीचर, शौचालय, कंप्यूटर एवं स्मार्ट क्लास की सुविध दी जायेगी। अध्यापकों की कमी वाले स्कूल में स्मार्ट क्लास, ई-लर्निंग और वर्चुअल क्लास की सुविधा दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि श्रीनगर विधान सभा क्षेत्र में बीरोंखाल कें चोपताखाल और थैलीसैंण के कुठसाल में नवीन इण्टर काॅलेज निर्माण किया जायेगा। इसके लिए संबन्धित प्रस्ताव शासन में भेजने का निर्देश दिया गया। इसके अतिरिक्त छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर पुराने खतरनाक भवनों को ध्वस्त कराकर नवीन भवन निर्मित करने का भी निर्देश दिया। बैठक में कहा गया वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली से संबन्धित मासो ग्राम एवं श्रीनगर एस.एस.बी. में केन्द्रीय विद्यालय निर्माण का प्रस्ताव भेजा जायेगी।
उन्होंने कहा कि श्रीनगर विधान सभा में दरी मुक्त अभियान के तहत 17 हजार छात्रों को दरीमुक्त अभियान के तहत फर्नीचर प्रदान किया गया है। शेष 4 हजार छात्रों को 2020 तक फर्नीचर उपलब्ध कराया जायेगा।

बैठक में निर्देश दिया गया कि थैलीसैंण, पाबो और खिर्सू में मार्च 2020 तक प्रत्येक स्कूल काॅलेज को 100 प्रतिशत फर्नीचर दिया जाए। इसके अतिरिक्त इस क्षेत्र के प्रत्येक इण्टर कालेज को 2-2 कंप्यूटर का प्रबन्ध किया जाय।

इस अवसर पर सचिव शिक्षा आर. मीनाक्षी सुन्दरम, निदेशक विद्यालयी शिक्षा आर.के.कुंवर, अपर निदेशक माध्यमिक शिक्षा रामकृष्ण उनियाल,  मुख्य शिक्षा अधिकारी पौड़ी मदन सिंह रावत, डी.ई.ओ. प्राथमिक शिक्षा पौड़ी के.एस.रावत, प्रभारी बी.ई.ओ. विकासखण्ड खिर्सू एस.एस.मेहरा एवं उप शिक्षा अधिकारी विकासखण्ड खिर्सू सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad