Monday, June 24, 2024
Homeउत्तराखंडराष्ट्रीय एकता व सौहार्द में छात्र-छात्राओं की महत्वपूर्ण भूमिकाः राज्यपाल

राष्ट्रीय एकता व सौहार्द में छात्र-छात्राओं की महत्वपूर्ण भूमिकाः राज्यपाल

राजभवन देहरादून 12 दिसम्बर 2019(हि. डिस्कवर)

राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य सेे गुरूवार को राजभवन में असम राज्य के कारबी आंगलौंग क्षेत्र के 25 छात्रों के एक दल ने भेंट की। यह सातवीं व आठवी कक्षा के स्कूली छात्र असम के सीमान्त क्षेत्र से हैं जो भारतीय सेना द्वारा आयोजित राष्ट्रीय एकता भ्रमण के तहत देहरादून में आए हैं। उत्तराखण्ड भ्रमण के साथ ही यह छात्र दिल्ली में राष्ट्रपति भवन व अन्य ऐतिहासिक स्थल, अमृतसर स्वर्ण मंदिर, जलियावाला बाग, वाघा सीमा व अन्य महत्वपूर्ण स्थलों का भ्रमण करेंगे।

इस अवसर पर राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि सीमान्त क्षेत्र के बच्चों द्वारा भारत के अन्य भागों के भ्रमण से उनकी जानकारी व अनुभव बढेंगे। उन्होंने कहा कि बच्चे ऊर्जावान व प्रतिभा सम्पन्न है और सही दिशा व मार्गदर्शन से वे देश की प्रगति व विकास में महत्वपूर्ण योगदान कर सकते हैं। राज्यपाल ने कहा कि भारत सांस्कृतिक, भाषायी, भौगोलिक रूप से विविधतापूर्ण देश है। देश के प्रत्येक क्षेत्र की संस्कृति समृद्धशाली है। हमें एक दूसरे की संस्कृति, परम्पराओं, भाषाओं और विश्वासों को जानना और उनका सम्मान करना चाहिये। देश की प्रगति के लिये देश की एकता और अखण्डता बहुत आवश्यक है। राष्ट्रीय एकता व सौहार्द में छात्र-छात्राएं महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। पूर्वोत्तर राज्य प्राकृतिक रूप से भारत के सुन्दरतम राज्यों में हैं। देश की सांस्कृतिक व आर्थिक समृद्धि में असम सहित सभी पूर्वोत्तर राज्यों का महत्वपूर्ण योगदान है। भारत की मजबूती के लिये देश के विभिन्न भागों के छात्र-छात्राओं का आपसी संवाद, भ्रमण व विचारों का आदान-प्रदान निरन्तर जारी रहना चाहिये। राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने बच्चों को उपहार स्वरूप काॅफी मग भेंट किये। उन्होंने छात्रों को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ दी।

 इस अवसर पर आॅपरेशन सद्भावना के तहत आये भारतीय सेना के मेजर गौरव श्रीवास्तव, नायब सूबेदार संजीव सिंह, हवलदार सुखविन्दर सिंह सहित शिक्षकगण भी उपस्थित थे

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES