Saturday, May 18, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिराज्यपाल ने किया श्री स्वामी भूमानन्द अस्पताल में ब्लड बैंक का शुभारम्भ।

राज्यपाल ने किया श्री स्वामी भूमानन्द अस्पताल में ब्लड बैंक का शुभारम्भ।

राजभवन देहरादून 20 अगस्त, 2019(हि.डिस्कवर)
राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने हरिद्वार में स्वामी अच्युतानन्द तीर्थ श्री महाराज के 66वें अवतरण दिवस पर श्री स्वामी भूमानन्द अस्पताल में ब्लड बैंक का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने कहा कि रक्तदान अत्यंत पुण्य का कार्य है। एक यूनिट रक्त देकर कई लोगों का जीवन बचाया जा सकता हैं। विशेषकर युवाओं व छात्र-छात्राओं को रक्तदान के लिये आगे आना चाहिये। समाज में रक्तदान के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिये कार्य करना होगा। लोगों में रक्तदान से जुड़ी भ्रान्तियां भी दूर करने का प्रयास होना चाहिये।

राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि हरिद्वार एक तीर्थ नगरी व पर्यटन स्थल है। यहां स्थानीय आबादी के साथ ही तीर्थयात्रियों, पर्यटकों का भी आवागमन रहता है। रक्त बैंक स्थापित होने से यहां के लोगों, तीर्थं यात्रियों, कावंड़ियों, पर्यटकों को बड़ा लाभ होगा।  आपातकाल में रक्त की आवश्यकता के समय लोगों का जीवन बचाने में यह ब्लड बैंक अत्यंत उपयोगी सिद्ध होगा।

राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि हमारे साधु-सन्त पुराने समय से ही समाज का मार्गदर्शन करते रहे हैं। जब जरूरत पड़ी तो साधु-सन्तों ने समाज के हित के लिए के लिये बड़ा बलिदान दिया। सनातन धर्म और मानव कल्याण एक दूसरे जुड़े हैं। धार्मिक संस्थाओं द्वारा लोगों के हितों के लिये कार्य करना धर्म की सार्थकता को बढ़ाता है।

राज्यपाल ने कहा कि साधु-सन्तों ने सांसारिक जीवन त्याग कर भी समाज में सदैव महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सन्तों का जीवन त्याग व तपस्या का जीवन है। उन्होंने समाज से कुछ लिये बिना सदैव अपने ज्ञान व पुण्यों का फल समाज को समर्पित किया है। सन्यासी व सन्त समय-समय पर दुःखी व रोगग्रस्त समाज के लिये चिकित्सक की भूमिका निभाते हैं। व्यक्तिगत जीवन की लालसाओं को त्याग कर व्यापक समाज हित के लिये सोचना व कार्य करना ही साधुत्व हैं।
इस अवसर पर सचिव राज्यपाल रमेश कुमार सुधांशु, जिला प्रशासन के विभिन्न अधिकारी, बड़ी संख्या में साधु संत मौजूद थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES