Saturday, May 18, 2024
Homeउत्तराखंडमहामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले...

महामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज पहुँचे हरिद्वार में आयोजित श्री राम कथा में।

(जगमोहन आजाद)

उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य एवं हंस फाउंडेशन के प्रेरणास्रोत माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी हरिद्वार के खूबसूरत कम्पाउंड, खन्नानगर ज्वालापुर में आयोजित श्री राम कथा में बतौर मुख्य अतिथि पहुँचे।

इस मौके पर कथा आयोजकों ने शॉल ओढाकर महामहिम राज्यपाल और माताश्री मंगला एवं श्री भोले जी महाराज का सवागत किया।

इस अवसर श्रीमती मौर्य ने कहा कि भगवान श्री राम के जीवन के आदर्शों को आज के समय में खुद के जीवन में समाहित करने की बहुत आवश्यकता है। महामहिम ने समाज के वर्तमान परिपेक्ष में कथा व्यास साध्वी विश्वेश्वरी देवी से अपने कथा के माध्यम से समाज में बहन बेटियों के सम्मान का संदेश देने की भी अपील की। उन्होंनें कहा कि माता-बहनों का सम्मान करना हमारी संस्कृति रही है फिर क्यों बेटियों की सुरक्षा के लिए प्रदर्शनों की आवश्यकता समाज को पड़ रही है। उन्होंने आह्वान करते हुए कहा कि कथा श्रवण को आये सभी भक्तज बेटियों की सुरक्षा का जिम्मा लेकर जायें तभी पुरषोत्तम भगवान की इस कथा सार्थकता है।

इस अवसर पर विशेष तौर पर श्री राम कथा में पहुँची समाज सेवी माताश्री मंगला जी ने कहा कि श्री राम के आदर्श को जानने समझने के लिए हम सब को श्री राम की विचारधारा को समझना होगा। आज हमारे समाज में हमारी बेटियों की जो स्थिति है। उसे देखकर मन भयभीत हो जाता है। हम सब को मिलकर बेटियों के प्रति इस छोटी सोच को बदलना होगा।
माता मंगला जी ने कहा कि महामहिम राज्यपाल जी ने जैसा कहा कि यहाँ आए हम सभी लोग यह संकल्प लेकर यहाँ से लौटे की हमें अपनी बच्चियों के भविष्य निर्माण के लिए हर दिन कण-कण समर्थन देना है। तभी हम सब श्री राम की परिकल्पना के मार्ग पर चल पाएंगे।
इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक सहित भारत माता मंदिर समिति के संत ललितानंद आदि भी उपस्थित थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES