Thursday, February 22, 2024
Homeउत्तराखंडबड़कोट डायरी भाग-5 आंदोलन....!

बड़कोट डायरी भाग-5 आंदोलन….!

(विजयपाल रावत)

                              "आंदोलन"

 सन 1804 में गोरखाओं से युद्ध करते हुये गढ़वाल के राजा प्रद्युम्न शाह शहीद हो गये। किशोर अवस्था के युवराज सुदर्शन शाह ने किसी तरह गोरखाओं से जान बचकर मुरादाबाद की तरफ शरण ली। कई वर्षो बाद आगरा में अंग्रेजों से मित्रता कर गोरखाओं से गढ़वाल राज्य वापस पाने के लिये सुदर्शन शाह ने एक करार किया। जिसमें अंग्रेजों को युद्ध का हर्जाना खर्च देकर राज्य वापस पाने की शर्तों पर दोनों की आम सहमति बनी।


गोरखाओं को युद्ध में परास्त करने के बाद अंग्रेजों ने सुदर्शन शाह से युद्ध का खर्च पांच लाख रूपये मांगा। लंबे समय से दर-दर भटक रहे सुदर्शन शाह के लिए यह धनराशि दे पाना मुमकिन ना था। अंततः इस बात पर सहमति बनी की गढ़वाल राज्य का मनचाहा हिस्सा अंग्रेजों को देकर पुनः नये गढ़वाल राज्य की स्थापना करी जाये। इस समझौते को इतिहास में सिंगोली की संधि के अंतर्गत विस्तार से पढ़ा जा सकता हैं।

      अंग्रेजों ने बहुत चालाकी से गढ़वाल के बड़े व्यावसायिक एवं समृद्ध हिस्से को अपने कब्जे में ले लिया। जिसमें पौड़ी, चमोली और देहरादून का चकराता तक बड़ा भूभाग था, जो ब्रिटिश गढ़वाल कहलाया। बाकी बचा टिहरी और उत्तरकाशी का भूभाग टिहरी रियासत के रूप में पुनः गठित हुआ।  

      इस बंटवारे में बड़ी तादात में ब्रिटिश गढ़वाल के स्थानीय लोगों ने सुदर्शन शाह के साथ टिहरी रियासत में पलायन किया। पांच हजार रूपये में पुरानी टिहरी में महल एवं आवश्यक भवन निर्माण कर राजधानी के रूप में बसाया गया। लेकिन राजस्व के सीमित संसाधनों के कारण टिहरी नरेश अभी भी एक गरीब राजा थे। 

    ब्रिटिश फौज का पूर्व सैनिक और शिकारी फ्रेड्रिक विलसन एक दिन घूमते-फिरते टिहरी पंहुचा। यह सूचना पाकर राजा भयभीत हुऐ लेकिन वार्तालाप से पता चला की वह राजा से जंगल में शिकार करने अनुमति चाहता है। बदले में राजा को उसने एडवांस में अच्छी धनराशि भेंट करी। राजा को सौदा ठीक लगा। शिकारी विल्सन ने बेतहाशा हिमालयी मोर प्रजाति के मोनाल पंछीयों का शिकार किया। जिसके सर पर उगे खूबसूरत पंखों को विल्सन लंदन जाकर ऊंचे दामों में बेच आता। लंदन सहित समस्त यरोप में मोनाल के इन पंखों को अमीर महिलाओं के हैट पर सजाने का फैशन था। 

अच्छी धनराशि कमाने के बाद विल्सन ने टिहरी राजा से देवदार के जंगल काटने और बेचने की अनुमति मांगी और लाभ में राजा की हिस्सेदारी का प्रस्ताव भी रखा। राजा को कमाई के ये नये प्रस्ताव पसंद आये और विल्सन को हर्सिल उत्तरकाशी के पूरे जंगल का अधिपत्य दे दिया गया। विलसन देवदार के अनगिनत पेड़ काटता रहा और उन्हें गंगा नदी में बहा कर मैदानी क्षेत्रों से वाहनों में भरकर सड़कों से समुद्रतट तक ले जाता। जहां से बड़े जहाजों से जलमार्ग द्वारा उन्हें लंदन में बेच आता। ये भी सुनने को मिलता है की तब का आधे लंदन शहर के भवन हर्सिल की लकड़ी से बने थे। बड़े खेल का बड़ा मुनाफा। टिहरी के राजा और विल्सन दोनों ही इस धंधे में आर्थिक रूप से बहुत मजबूत हो गये थे।

  सन 1857 की क्रान्ति के बाद अंग्रेजों ने देशभर में रेल पटरी का विस्तार किया। जिसके लिए उन्हें ऐसी लकड़ी चाहिए थी जो बरसात में पानी से खराब ना हो। तब तक विल्सन की ख्याति लकड़ व्यवसायी के रूप में पूरे लंदन तक फैल चुकी थी। रेल पटरी हेतु देवदारू लकड़ी की आपूर्ति का ठेका विल्सन को दिया गया। विलसन ने टिहरी नरेश को भी बड़ा हिस्सा देकर इस काम के लिए राजी कर दिया। अब टिहरी का गरीब राजा धन संपन्नता से महाराजाओं में गिने जाने लगा। टिहरी के राजकुमार तब के आधुनिक विश्वविद्यालयों में पढ़ने के लिये विदेशों में जाने लगे। जहां उन्हें अनेक भौतिकवादी आदतों में मोटरगाड़ी चलाने का भी शौक चढ़ा।

इसी मोटरगाड़ी का शौक राजा नरेंद्र शाह को पागल कर गया। पहले वह विदेश से एक गाड़ी के कल पुर्जे खोल कर टिहरी लाया जिसे जोड़कर वह मोटरगाड़ी पर सवार होकर पुराना दरबार से आजाद मैदान की तरफ सड़कों पर दनदनाता और गरीब जनता को अपना रौब दिखाता। लेकिन नरेंद्र शाह के मन को इससे शांति नहीं मिली। इसलिए उसने ऋषिकेष के समीप "अड़ाथली का डांडा" में नये महल का निर्माण कराया। जहां से नजदीकी सड़क बनाकर वह ऋषिकेष स्थिति मुख्य सड़क मार्ग से जुड़ कर मोटरगाड़ी में खूब सैर-सपाटा कर पाता। 

 इस मोटरगाड़ी की सनक ने अड़ाथली के डांडे में नरेंद्र नगर का आलिशान महल बनवाया जिसकी लागत की भरपाई के लिये टिहरी की जनता पर प्रताड़ित करने वाले टैक्स लगाये गये जिसके परिणामस्वरूप सन 1930 में बड़कोट गांव में तिलाडी गोलीकांड घटित हुआ। रंवाई के रण बाकुरों का यह विद्रोह टिहरी राजशाही के खिलाफ पहला स्वतंत्रता का आंदोलन बना। जो रंवाई घाटी की "आजाद पंचायत" संगठन के नेतृत्व में आम जनता द्वारा लड़ा गया।

क्रमशः जारी…………

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad