Thursday, February 22, 2024
Homeउत्तराखंडदेशी विदेशी वन्यजीव प्रेमियों की भी होगी ऑनलाइन बुकिंग।

देशी विदेशी वन्यजीव प्रेमियों की भी होगी ऑनलाइन बुकिंग।

देहरादून 10 अक्टुबर 2019 (हि. डिस्कवर)।

विधानसभा स्थित कार्यालय कक्ष में काॅर्बेट टाइगर रिजर्व के विभिन्न गेटों से पर्यटकों के ऑनलाइन प्रवेश के सम्बन्ध में वन मंत्री डा0 हरक सिंह रावत की अध्यक्षता में बैठक आहूत सम्पन्न की गयी। बैठक में देशी एवं विदेशी वन्यजीव प्रेमियों को समान रूप से ऑनलाइन बुकिंग प्रदान किये जाने की व्यवस्था का निर्णय लिया गया, जिससे पर्यटकों को बिना किसी विलम्ब के कार्बेट टाइगर रिजर्व में सरलतापूर्वक सफारी करायी जा सकें। इसके साथ ही कोटद्वार के पाखरों गेट को कार्बेट टाइगर रिजर्व के लिए ऑनलाइन प्रवेश की व्यवस्था करने का भी निर्णय लिया गया।

डा0 हरक सिंह रावत द्वारा ऑनलाइन बुकिंग को सरलीकृत करते हुए केवल एक व्यक्ति के मोबाइल से बुकिंग स्वीकृत करने की सुविधा प्रदान करने का भी निर्णय लिया गया। वन्य जीवन को समीप से देखेन हेतु कोटद्वार स्थित हल्दूपडाव में विद्यार्थियों एवं अन्य शोधार्थियों हेतु डोरमेट्री का संचालन करने का निर्णय लिया गया है।

डॉ हरक सिंह रावत द्वारा ऑनलाइन बुकिंग की इस व्यवस्था को विस्तृत रूप देते हुए कार्बेट टाइगर रिजर्व के लिए किसी भी देश से उस देश केनागरिक द्वारा दुनिया में अन्य देश के किसी भी व्यक्ति के लिए सफारी बुकिंग किये जाने की व्यवस्था को तत्काल लागू किये जाने का निर्णय लिया गया। इस ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था से कार्बेट टाइगर रिजर्व में पर्यटकों की संख्या में वृद्वि भी होगी।

वन मंत्री डा0 हरक सिंह रावत ने बताया की कौशल विकास मंत्री के रूप में उनके द्वारा पर्यटन का बढावा दिये जान हेतु नेशनल पार्कों में गाइडों को कौशल विकास के माध्यम से उच्च कुशल प्रशिक्षण प्रदान कर पर्यटकों को वन्यजीवों के सम्बन्ध में जागरूक भी किया जायेगा। जिससे मानव और वन्यजीवों के मध्य संघर्ष को जागरूकता के माध्यम से कम किया जा सकें ।

उक्त बैठक में मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक राजीव भरतरी, निदेशक कार्बेट टाइगर रिजर्व श्री राहुल तथा निदेशक, एन0आई0सी0 के0 नारायण आदि अधिकारी उपस्थित रहें।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad