Wednesday, June 19, 2024
Homeउत्तराखंडजागेश्वर महोत्सव का आयोजन 12 से 14 अक्टूबर तक किया जायेगा।

जागेश्वर महोत्सव का आयोजन 12 से 14 अक्टूबर तक किया जायेगा।

अल्मोड़ा 01 अक्टूबर, 2019 (हि.डिस्कवर)

जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया की अध्यक्षता में  आगामी 12 से 14 अक्टूबर, 2019 को प्रस्तावित जागेश्वर महोत्सव के सम्बन्ध में बैठक कैम्प कार्यालय सम्पन्न हुई। उन्होंने बताया कि पर्यटन व सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा दिये जाने के लिए अल्मोड़ा, रानीखेत में आयोजित होने वाले महोत्सव की तर्ज पर जागेश्वर महोत्सव का आयोजन 12 से 14 अक्टूबर तक किया जायेगा। जिलाधिकारी ने बताया कि इसमें सांस्कृतिक कार्यक्रमों के अलावा योगा अभ्यास, साहसिक पर्यटन गतिविधियाॅ के अलावा अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन होना है।

बैठक में उन्होंने उप जिलाधिकारी जैंती/भनोली मोनिका को निर्देश दिये कि महोत्सव के लिए आवश्यक व्यवस्थायें व कलाकारों के कार्यक्रमों को अन्तिम रूप देने के लिए उनके कार्यक्रम तय कर दिये जाय। इसके साथ ही जागेश्वर प्रबन्धन समिति के सदस्यों को अन्य स्थानीय लोगो के साथ विचार-विमर्श कर महोत्सव को भव्य बनाने के लिए कार्य योजना तैयार की जाय। बैठक में उपजिलाधिकारी ने बताया कि तीन दिवसीय महोत्सव के लिए कुमाऊॅनी गायक कलाकारों में दक्ष कार्की, खुशी जोशी, गोविन्द दिगारी, माया उपाध्याय, मीना राणा आदि के नामो पर विचार किया गया है।

जिलाधिकारी ने कहा कि उक्त कलाकारों से सम्पर्क स्थापित कर सुविधानुसार उन्हें महोत्सव हेतु बुलाया जाय। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि जागेश्वर महोत्सव के लिए मन्दिर समिति के अलावा स्थानीय लोगो व आसपास के लोगो के साथ बैठक की जाय। उन्होंने निर्देश दिये कि इस दौरान जटागंगा में भी एक वृहद सफाई अभियान चलाया जाय जिसमें स्थानीय लोगो का प्रतिभाग अवश्य हो। उन्होंने कहा कि महोत्सव के दौरान गंगा आरती को भी शामिल किया जाय।
इस दौरान महोत्सव को सफल बनाने के लिए अन्य कई बिन्दुओं पर चर्चा की गयी। बैठक में प्रबन्धक जागेश्वर मन्दिर समिति भगवान भटट, उपाध्यक्ष गोविन्द गोपाल, पर्यटन अधिकारी राहुल चैबे, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, मनोज मासीवाल व अन्य लोग उपस्थित थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES