Saturday, May 18, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिचिंताजनक😓😓---- श्राद्ध पक्ष में पित्रों के प्रतिनिधि 'कौवे' की कम उपस्थिति और...

चिंताजनक😓😓—- श्राद्ध पक्ष में पित्रों के प्रतिनिधि ‘कौवे’ की कम उपस्थिति और घटती संख्या बेहद चिंतनीय..।

(ग्राउंड जीरो से संजय चौहान)

पौराणिक मान्यता है कि श्राद्ध पक्ष में कौवे दिवंगत परिजनों के हिस्से का खाना खाते हैं, तो पितरों को शांति मिलती है और उनकी तृप्ति होती है। श्राद्ध के दिनों में इस पक्षी का महत्व बढ़ जाता है। यदि श्राद्ध के दिनों में यह घर की छत का मेहमान बन जाए, तो इसे पितरों का प्रतीक और दिवंगत अतिथि स्वरुप माना गया है। ऐसी मान्यता है कि कौआ वायु का, कुत्ता जल का, चींटी अग्नि का, गाय पृथ्वी का और देवता आकाश तत्व का प्रतीक हैं। इन पांचों को भोजन देकर हम पंचतत्वों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं।

लेकिन पितृ दूत कहलाने वाले कौवे आज गांव से लेकर शहरों में यदा कदा ही नजर आते। बढ़ते शहरीकरण, पेड़ों की कटाई और ऊंची इमारतों के कारण प्रकृति का जो ह्रास हुआ है, उसने कौवों की संख्या को कम कर दिया है। जहाँ श्राद्ध के समय घर गाँव से लेकर शहरों में कौवों की भरमार दिखाई देती थी वहीं आज इनके दर्शन ही दुर्लभ हो गये हैं। जो कि पर्यावरणीय दृष्टि से भी चिंताजनक हैं।

मान्यतानुसार यह पक्षी यमराज का दूत होता है। जो श्राद्ध में आकर अन्न की थाली देखकर यम लोक जाकर हमारे पितृ को श्राद में परोसे गए भोजन की मात्रा और खाने की वस्तु को देखकर हमारे जीवन की आर्थिक स्थिति और सम्पन्नता को बतलाता है। जिसको जानकार पितृ को संतुष्टि होती है और उनकी आत्मा को शान्ति मिलती है। अपने वंशज के खानपान देखकर पितृ को वर्तमान पीढ़ी के सुखी जीवन का आभास होता है। जिसको सुनकर पितृ संतुष्ट और खुश होते है। इसलिए श्राद्ध कर्म विधि में कौवें भोजन दिया जाता है.

जबकि शास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि कौवा एक मात्र ऐसा पक्षी है जो पितृ-दूत कहलाता है। यदि दिवंगत परिजनों के लिए बनाए गए भोजन को यह पक्षी चख ले, तो पितृ तृप्त हो जाते हैं। इसीलिए श्राद्ध पक्ष में पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धा से पकवान बनाकर कौओं को भोजन कराते हैं। हिंदू धर्मशास्त्रों ने कौए को देवपुत्र माना है और यही वजह है कि हम श्राद्ध का भोजन कौओं को अर्पित करते हैं।

वहीं प्राचीन ग्रंथो और महाकाव्यों में इस कौवे से जुड़ी कई रोचक कथाएँ और मान्यताएं भी लिखी हुई है। पुराणों में भी कौवों का बहुत महत्व बताया गया है। पुराणों के अनुसार कौवों की मौत कभी बीमारी से या वृद्ध होकर नहीं होती है। कौवे की मौत हमेशा आकस्मिक ही होती है और जब एक कौआ मरता है, तो उस दिन उस कौवे के साथी खाना नहीं खाते है। कौवे की खासियत है कि वह कभी भी अकेले भोजन नहीं करते है। वह हमेशा अपने साथी के संग मिल बांटकर ही भोजन करता है।

कौवा एक विस्मयकारक पक्षी है। इनमें इतनी विविधता है कि इस पर एक ‘कागशास्त्र’ की रचना की गई है। रामायण के एक प्रसंग के अनुसार भगवान राम एवं सीता पंचवटी में एक वृक्ष के नीचे बैठे थे। श्रीराम सीता माता के बालों में फूलों की वेणी लगा रहे थे। यह दृश्य इंद्रपुत्र जयंत देख नहीं सके। ईर्ष्यावश उन्होंने कौए का रूप धारण किया एवं सीताजी के पैर पर चोंच मारी। राम ने उन्हें सजा देने के लिए बाण चलाया। इंद्र के माफी मांगने पर बाण से जयंत की एक आंख फोड़ दी, तब से कौए को एकाक्षी समझा जाता है।

कौआ देता है भविष्य के ये संकेत!

1– अगर स्वप्न में कौआ मिठाई खाता हुआ दिखाई दे तो यह समझना चाहिए कि कहीं से धन प्राप्त होने वाला है।

2– अगर स्वप्न में कौआ किसी पुरुष की पगड़ी के ऊपर बीट कर दे तो उसके घर में संतान का जन्म होता है।

3–माना जाता है कि कौआ जब घर की छत, मुंडेर या खपरैल पर बैठकर सुबह काँव काँव करता है तो शुभ माना जाता है। कहते हैं कौवे का बोलना घर में मेहमान आने का संकेत देते हैं।

4– कहा जाता है कि कौवा यदि किसी कुंवारी लड़की के ऊपर से उड़कर निकले तो समझो कि जल्द ही उसकी शादी होने वाली है। साथ यदि विवाहित महिला के ऊपर से उड़कर निकले तो माना जाता है कि उसकी गोद भरने वाली है।

5– कौआ की चोंच में फूल पत्ती दिखे तो मनोरथ की प्राप्ति के संकेत हैं।

6– अगर कोई व्यक्ति नौकरी की तलाश में घर से बाहर निकले और रास्ते में किसी स्थान पर गंदगी के ऊपर बैठा हुआ कौआ दिखाई दे जाए तो वह अच्छा शकुन होता है।

7– विवाह के अवसर पर बांटी जाने वाली मिठाई में से अगर कौआ मिठाई का दाना लेकर उड़ जाए तो समझना चाहिए कि उस नवविवाहित दम्पति को पुत्र रत्न की प्राप्ति होगी।

वास्तव में जिस तरह से श्राद्ध पक्ष में पित्रों के प्रतिनिधि ‘कौवे’ की कम उपस्थिति और घटती संख्या साफ दिखाई दे रही है वह बेहद चिंताजनक है। इसलिए समय रहते पक्षी प्रेमियों से लेकर शोधार्थियों और सरकार को इस दिशा में गंभीर प्रयास प्रयास करने होंगे। तब कहीं जाकर हम पित्रों के इस प्रतिनिधि को लुप्त होने से बचा पायेंगे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES