Saturday, July 13, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिगुरुनानक देव की तपस्थली धार्मिक नगरी को पर्यटन की दृष्टि से...

गुरुनानक देव की तपस्थली धार्मिक नगरी को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है- मुख्यमंत्री!

नानकमत्ता/देहरादून 30 अगस्त, 2019(हि. डिस्कवर)
शुक्रवार को नानकमत्ता के धार्मिक डेरा कारसेवा में पंथरत्न बाबा हरवंश, बाबा फौजा सिंह व बाबा टहल सिंह की बरसी पर आयोजित अखण्ड पाठ एवं भोग कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि गुरूनानक की तपस्थली का विकास करना सरकार की प्राथमिकता है। उन्होने कहा इस धार्मिक नगरी को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है। नानकमत्ता के विकास में कोई कमी नही की जायेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि सिक्खों के प्रथम गुरू गुरूनानक देव जी ने हमेशा अपने अनुयायियों को धर्म और समाज की रक्षा करने का संदेश दिया। गुरूनानक देव ने हमेशा गरीब व ईमानदारों की सेवा की, वे महान संत थे। उन्होने कहा कि सिक्खों द्वारा अपने गुरूओं के बताये गये मार्ग पर चलकर आज देश व समाज की सेवा की जा रही है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा पूर्व में की गयी मुख्यमंत्री घोषणा के अन्तर्गत डेराकार सेवा गुरूद्वारा नानकमत्ता में 95.35 लाख से बनने वाले पार्किंग स्थल व नानकमत्ता में थारू विकास भवन का शिलान्यास किया थारू विकास भवन 171.94 लाख की लागत से निर्मित किया जायेगा।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने श्री नानकमत्ता साहिब के हरमिन्दर साहिब दरबार में मत्था टेका तथा प्रदेश के सुख समृद्धि की अरदास की।

सांसद अजय भट्ट ने कहा कि नानकमता गुरूद्वारा उनके संसदीय क्षेत्र में है। उन्होंने कहा कि गुरूद्वारे की मांगो को पूर्ण करने का यथा सम्भव प्रयास किया जायेगा।
कार्यक्रम में केबिनेट मंत्री यशपाल आर्या, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डा0 धन सिंह रावत, विधायक पुष्कर सिंह धामी, डा0 प्र्रेम सिंह राणा, राजेश शुक्ला, हरभजन सिंह चीमा, वन विकास निगम के अध्यक्ष सुरेश परिहार, मण्डलायुक्त राजीव रौतेला, जिलाधिकारी डा0 नीरज खैरवाल, सहित अन्य लोग उपस्थित थे। 

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES