Wednesday, May 29, 2024
Homeउत्तराखंडखबरें अल्मोड़ा से.....!

खबरें अल्मोड़ा से…..!

अल्मोड़ा 08 दिसम्बर, 2019 (हि.डिस्कवर)–  

रूपान्तर

जिला प्रशासन व शिक्षा विभाग द्वारा एक नवाचारी प्रयास ‘‘रूपान्तरण‘‘ कार्यक्रम के अन्तर्गत राजकीय विद्यालयों का कायाकल्प किया जा रहा है। इस कार्यक्रम से राजकीय विद्यालयों को अवस्थापना सुविधाओं से युक्त बनाकर बेहतर शैक्षिक वातावरण का सृजन करना है। नृत्य सम्राट पं0 उदयशंकर के जन्म दिवस के अवसर पर आज उदयशंकर नाटय अकादमी में 55 विद्यालयों में रूपान्तरण कार्यक्रम पूर्ण होने पर रूपान्तरण-55 कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में जनपद के विभिन्न विकासखण्डों के पूर्ण हुए 55 विद्यालयों के अध्यापकों व इस कार्यक्रम में विशेष सहयोग के लिए अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र सम्मानित किया गया।

इस दौरान जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से विद्यालयों में संसाधनों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इसका उददेश्य बच्चों को विद्यालयों की ओर आकर्षित करना है। जिलाधिकारी ने कहा कि इससे विद्यालयों में छात्र संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है और अनेक गणमान्य व्यक्तियों का भरपूर सहयोग मिल रहा है। जिलाधिकारी ने कहा कि नृत्य सम्राट उदयशंकर के जन्म दिवस के अवसर पर आज यह कार्यक्रम किया गया है। उन्होंने कहा कि इस अकादमी की सार्थकता तभी हो सकती है अगर इसमें कार्यक्रम समय-समय पर होते रहंे। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक वर्ष प0ं उदयशंकर का जन्म दिवस इसी प्रकार किसी न किसी कार्यक्रम के माध्यम से मनाया जायेगा।

कार्यक्रम में उपस्थित नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि पं0 उदयशंकर जन्म दिवस के अवसर पर यहा पर आयोजित किये गये कार्यक्रम काफी सराहनीय है। उन्होंने कहा कि पं0 उदयशंकर का अल्मोड़ा गहरा लगाव रहा है। उन्होंने कहा कि रूपान्तरण कार्यक्रम के माध्यम से जो कार्य शिक्षा विभाग द्वारा किया जा रहा है उसके द्वारा घटती छात्र संख्या में कमी आ रही है। उन्होंने कहा कि गुणवत्तापकर शिक्षा देने के लिए शिक्षकों को विशेष ध्यान देने की जरूरत है।
इस दौरान वरिष्ठ रंगकर्मी शंकर लाल साह जिन्होंने पं0 उदयशंकर के सम्मुख अनेक बार अपने प्रस्तुतीकरण दिया उन्हें शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में उदयशंकर पर आधारित लघु फिल्म कल्पना के कुछ अंश दिखाये गये। इसके अलावा अनेक लघु फिल्मों का भी मंचन कार्यक्रम के दौरान किया गया। इस अवसर पर विहान समाजिक संस्था द्वारा अनेक रंगारंग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गये।

इस कार्यक्रम में मुख्य शिक्षाधिकारी जगमोहन सोनी, जिला शिक्षाधिकारी राय साहब यादव, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, परियोजना प्रबन्धक आजीविका कैलाश चन्द्र भटट, जिला समाज कल्याण अधिकारी राजीव नयन तिवारी के अलावा समस्त खण्ड एवं उप शिक्षाधिकारी, शिक्षा विभाग के विनोद राठौर, विद्या कर्नाटक, रंगकर्मी प्रभात शाह गंगोला, आलोक वर्मा, जागेश्वर मन्दिर प्रबन्धन समिति के प्रबन्धक भगवान भटट, छायाकार मनमोहन चौधरी, युसूफ तिवारी, धनी साही के अलावा अनेक विद्यालयों के प्रधानाचार्य, अध्यापक, अध्यापिकायें आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन नवजोत पाण्डे ने किया।

अल्मोड़ा 08 दिसम्बर, 2019 (हि. डिस्कवर)–  

जनपद में साहसिक खेल गतिवधियों के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा दिये जाने के लिए अनेक स्थानों को साहसिक खेलों के लिए चिन्हित किया जायेगा यह बात जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने शनिवार को कलैक्ट्रेट सभागार में आयोजित एक बैठक के दौरान कही। उन्होंने बताया कि इसके लिए 04 स्थानों को चिन्हित किया गया है इसमें कोसी बैराज, जागेश्वर, रानीखेत व मरचूला शामिल है जिनमें साहसिक खेल गतिविधिया आयोजित होगी।

जिलाधिकारी ने सम्बन्धित उपजिलाधिकारियों को इन स्थानों में वन विभाग के अधिकारियों के साथ संयुक्त निरीक्षण कर अपनी रिर्पोट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत साहसिक खेलों के लिए स्थान चयनित करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि साहसिक खेलो से स्थानीय युवाओ को रोजगार व क्षेत्र में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने बताया कि इन खेलांे में राफ्टिंग, वाटर कयाकिंग, बन्जी जपिंग, जूमारिंग, राॅक क्लाईबिंग, हाॅट एयर बैलून आदि खेलों का आयोजन होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए साहसिक खेल समिति का भी गठन कर लिया गया है। यह समिति टैण्डर आदि प्रक्रिया व अन्य मामलों के लिए कार्य करेगी।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी मनुज गोयल, पर्यटन विकास अधिकारी राहुल चौबे, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, समिति के सदस्य भरत शाह आदि उपस्थित थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES