Sunday, March 3, 2024
Homeलोक कला-संस्कृतिक्या आप जानते हैं कि जनेऊ संस्कार में 96 हजार मन्त्र होते...

क्या आप जानते हैं कि जनेऊ संस्कार में 96 हजार मन्त्र होते हैं।

क्या आप जानते हैं कि जनेऊ संस्कार में 96 हजार मन्त्र होते हैं।

(मनोज इष्टवाल)
हर सूतक पर जहां जनेऊ खण्डित माना जाता है वहीं हर जनेऊ धारण करते वक्त सिर्फ एक मंत्रोचारण के माध्यम से जनेऊ धारण किया जाता है लेकिन क्या हम जानते हैं कि जनेऊ बनाने के लिए ब्राह्मण को कितनी मेहनत करनी पड़ती है।


ब्राह्मणों द्वारा त्रिसूत धागा पहले बेहद सावधानी से बनाया जाता है तदोपरान्त हाथ की चार अंगुलियों पर उसे 96 बार लपेटा जाता है। इस दौरान अगर किसी धागे पर गांठ पड़ गयी तो वह जनेऊ खण्डित माना जाता है। चार अंगुलियों के बीच 96 बार लपेटे गए जनेऊ को ही पूर्ण जनेऊ समझा जाता है। तदोपरांत जनेऊ का वर्गीकरण तीन लड़ी, छ: लड़ी या नौ लड़ी के रूप में किया जाता है।
माना जाता है कि एक जनेऊ में कर्मकांङ के 16 हजार मंत्र जबकि 18 पुराणों में वर्णित 80 हजार मंत्र मिलाकर कुल 96 हजार मंत्र समावित होते हैं। जो आयु, ऐश्वर्य, आरोग्य वर्द्धक माने जाते हैं।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES