Monday, June 24, 2024
Homeउत्तराखंडउत्तरकाशी जिले के भटवाड़ी व डुंडा विकास खंड में त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव...

उत्तरकाशी जिले के भटवाड़ी व डुंडा विकास खंड में त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव शांतिपूर्ण सम्पन्न।

उत्तरकाशी 6 अक्टूबर 2019(हि. डिस्कवर)।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के प्रथम चरण के अंतर्गत जनपद के विकास खंड भटवाड़ी व डुंडा में मतदान सम्पन्न हुआ।

जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने कहा कि दोनों विकास खण्ड में शनिवार को मतदान प्रक्रिया शांतिपूर्ण सम्पन्न हुआ। उन्होंने कहा कि भटवाड़ी में 80.89 प्रतिशत मतदान रहा, जबकि डुंडा में 72.37 फीसदी मतदान रहा। दोनों विकास खंड में कुल 75.87 प्रतिशत मतदान हुआ।

गत पंचायत चुनाव के सापेक्ष इस बार दोनों विकास खण्ड में 2.37 फीसदी मतदान प्रतिशत बढ़ा है। कुल 85,552 मतदाताओं के सापेक्ष 64,884 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। जिसमें 34,274 महिला मतदाता व 30,610 पुरूष मतदाताओं ने अपने बोट डाले।

जिला निर्वाचन अधिकारी चौहान ने कहा कि विकास खंड डुंडा की सभी 121 मतदान पार्टियां व भटवाड़ी की 85 मतदान पार्टियां शनिवार को ही सकुशल स्ट्रांग रूम पहुँच चुकी है। तथा विकास खंड भटवाड़ी की शेष 11 दुरस्थ मतदान पार्टियां आज रविवार दिन तक अपने-अपने स्ट्रांग रूम पहुंच जाएगी।

गौरतलब है कि विकास खण्ड भटवाड़ी में ग्राम प्रधान के 84 पदों के लिये 192 प्रत्याशी व क्षेत्र पंचायत सदस्य हेतु 38 पद के लिये 105 प्रत्याशी तथा जिला पंचायत सदस्य के 5 पद के लिए 29 उम्मीदवार चुनावी रण में थे।

विकास खण्ड डुण्डा में 101 प्रधान पद के लिए 237 उम्मीदवार व क्षेत्र पंचायत सदस्य की 40 पद के लिए 106 प्रत्याशी व जिला पंचायत सदस्य के 5 पद के लिए 30 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे।

कंट्रोल रूम में मुख्य विकास अधिकारी प्रवेश डंडरियाल, परियोजना निदेशक आरएस रावत, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी वीरेंद्र पुरी,प्रभारी अधिकारी कंट्रोल रूम सचिन कुमार, सहायक निदेशक मत्स्य प्रमोद शुक्ला,मुख्य कृषि अधिकारी गोपाल सिंह भंडारी, डीपीआरओ सीपी सुयाल,सहायक निदेशक अभिनव नोटियाल, अपर संख्याधिकारी सुरेश नोटियाल सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES