Sunday, March 3, 2024
Homeउत्तराखंडआपदा प्रबन्धन प्राधिकरण ने किया खोज-बचाव तकनीक का प्रर्दशन!

आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण ने किया खोज-बचाव तकनीक का प्रर्दशन!

अल्मोड़ा 13 अक्टूबर, 2019  (हि.डिस्कवर) 

प्राकृतिक आपदाओं को टालना मनुष्य के वश में नहीं है, मगर जागरूकता और समय पर राहत एवं बचाव कार्य के द्वारा प्राकृतिक आपदाओं के नुकसान को कम किया जा सकता है यह बात आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण, अल्मोड़ा द्वारा विभिन्न स्थानों पर आयोजित अन्र्तराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण एवं जागरूकता दिवस के अवसर पर स्थानीय लोगो को समझाई गयी।

जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण अल्मोड़ा की ओर से कोसी बैराज में त्वरित बाढ़ के दौरान किये जाने वाले खोज-बचाव तकनीक का प्रर्दशन किया गया जिसमें लोगों को बाढ़ के दौरान खोज-बचाव के बारे में बताया गया इस दौरान अनेक लोगों ने इस प्रर्दशन में प्रतिभाग किया। इसके अलावा जागेश्वर में विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये गये जिसमें मिनी मैराथन व पेटिंग प्रतियोगिताएं सम्मिलित है इन प्रतियोगिताओं में 100 अधिक प्रतिभागियों ने अपनी हिस्सेदारी की। प्राधिकरण की ओर से तहसीलों में भी जागरूकता कार्यक्रम व डेमों प्रर्दशन आयोजित किये गये।
                           

कोसी बैराज में प्रर्दशन कार्यक्रम के दौराना जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी ने उपस्थित लोगों को आपदा के दौरान क्या करे क्या न करें के सम्बन्ध में जानकारी दी।   उन्होने कहा कि आपदायें अचानक घटित होने वाली घटनायें होती है जिससे धन्य-धान्य एवं मानव हानि के साथ ही आम जनमानस को व्यापक नुकसान होता है। हमें इसके बचाव के उपायों को खोजना चाहिए ताकि इसके प्रभावों को कम किया जा सके। आपदा आने पर समय पर उठाया गया उचित कदम क्षति को कम कर सकता है जो कि आपदा प्रबन्धन की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। कार्यक्रम में एन0डी0आर0एफ0 के यशवन्त सिंह आपदा न्यूनीकरण एवं प्रबन्धन के रविन्द्र सिंह मेर, भुवन काण्डपाल, मनोज सिंह अधिकारी, भूपेन्द्र कुमार आर्या, गोविन्द सिंह सतवाल, जीवन चन्द्र जोशी, मनीष जोशी व एन0डी0आर0एफ0 टीम द्वारा समय बरतने वाली सावधानियों के बारे में विस्तारपूर्वक बताया गया। 

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES
Ad