Wednesday, June 26, 2024
Homeउत्तराखंडअनुसुया (नोदी मेला) ! -- 11-12 दिसंबर को दत्तात्रेय जयंती पर लगेगा...

अनुसुया (नोदी मेला) ! — 11-12 दिसंबर को दत्तात्रेय जयंती पर लगेगा भव्य मेला, पुत्रदायिनी माँ के दरबार में उमड़ता है भक्तों का सैलाब..।

(ग्राउंड जीरो से संजय चौहान)।

सीमांत जनपद चमोली के जिला मुख्यालय गोपेश्वर से 10 किमी की दूरी पर मंडल से 5 किमी पर स्थित है पौराणिक अनुसुया मंदिर। इस साल दत्तात्रेय जयंती (नोदी मेला) मार्गशीर्ष माह की चतुर्थी एवं पूर्णिमा (11- 12 दिसंबर) के अवसर पर अनुसुया (नोदी मेला) आयोजित किया जायेगा। इन दिनों माँ अनुसुया 46 बरसों के उपरांत देवरा यात्रा पर है। नोदी मेला के लिए मां अनुसुया वापस लौट आयेगी।

गौरतलब है कि पुराणों में मां अनुसूया को सती शिरोमणि का दर्जा प्राप्त है। अनसूया मंदिर के निकट अनसूया आश्रम में त्रिदेवों (ब्रह्मा, विष्णु व महेश) ने अनुसूया माता के सतीत्व की परीक्षा ली थी। मान्यता के अनुसार एक बार महर्षि नारद ने त्रिदेवियों (सरस्वती, लक्ष्मी व पार्वती) से कहा कि तीनों लोकों में अनसूया से बढ़कर कोई सती नहीं है। नारद मुनि की बात सुनकर त्रिदेवियों ने त्रिदेवों को अनसूया के सतीत्व की परीक्षा लेने के लिए मृत्युलोक भेजा। तीनों देवता अनसूया आश्रम में साधु वेष में आए और मां अनसूया से नग्नावस्था में भोजन करवाने को कहा। साधुओं को बिना भोजन कराये सती मां वापस भी नहीं भेज सकती थी। तब मां अनुसूया ने अपने पति अत्रि ऋषि के कमंडल से तीनों देवों पर जल छिड़ककर उन्हें शिशु रूप में परिवर्तित कर दिया और स्तनपान कराया। कई सौ सालों तक जब तीनों देव अपने स्थानों पर नहीं पहुंचे तो चिंतित होकर तीनों देवियां अनसूया आश्रम पहुंची तथा मां अनुसूया से क्षमा याचना कर तीनों देवों को उनके मूल स्वरूप में प्रकट करवाया। तब से इस स्थान पर सती मां अनसूया को पुत्रदायिनी के रूप में पूजा जाता है। मार्गशीष पूर्णिमा को प्रत्येक वर्ष दत्तात्रेय जयंती पर यहां दो दिन का विशाल मेला भी लगता है। रक्षाबंधन को यहां ऋषितर्पणी मेला लगता है।

प्राचीन काल में यहां पर देवी अनुसूया का छोटा सा मंदिर था। सत्रहवीं सदी में कत्यूरी राजाओं ने इस स्थान पर अनुसूया देवी के भव्य मंदिर का निर्माण किया था, मगर अठारहवीं सदी में विनाशकारी भूकंप से यह मंदिर ध्वस्त हो गया था। बाद में संत ऐत्वारगिरी महाराज ने निंगोल गधेरे व मैनागाड़ गधेरे के बीच के क्षेत्र के ग्रामीणों की मदद से इस मंदिर का निर्माण कराया। मंदिर स्थानीय पत्थरों से बनाया गया है।

नवरात्र में अनसूया देवी के मंदिर में नौ दिन तक मंडल घाटी के ग्रामीण मां का पूजन करते है। इस मंदिर की विशेषता यह है कि अन्य मंदिरों की तरह यहां पर बलि प्रथा का प्रावधान नहीं है। यहां श्रद्धालुओं को विशेष प्रसाद दिया जाता है। यह स्थानीय स्तर पर उगाए गए गेहूं के आटे का होता है। आज भी हर साल हजारों श्रद्धालु अनुसुया माता के दरबार में मत्था टेकने हर बरस आते हैं। जो ये चरितार्थ करता है कि यहाँ आस्था के आगे नतमस्तक हो जाता है मेडिकल साइंस।

Himalayan Discover
Himalayan Discoverhttps://himalayandiscover.com
35 बर्षों से पत्रकारिता के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, पर्यटन, धर्म-संस्कृति सहित तमाम उन मुद्दों को बेबाकी से उठाना जो विश्व भर में लोक समाज, लोक संस्कृति व आम जनमानस के लिए लाभप्रद हो व हर उस सकारात्मक पहलु की बात करना जो सर्व जन सुखाय: सर्व जन हिताय हो.
RELATED ARTICLES